गुजरात को भालू देंगे, बदले में शेर लेंगे

गोपालपुर चिडि़याघर में जल्द दहाड़ेगा जंगल का राजा, सेंट्रल जू अथॉरिटी ने दी प्रोपोजल को मंजूरी

हमीरपुर – गोपालपुर चिडि़याघर में गुजरात का शेर दहाड़ेगा। सेंट्रल जू अथॉरिटी(सीजेडए) ने गुजरात से शेर दंपत्ति को हिमाचल लाने की मंजूरी दे दी है। काफी समय से चल रहे प्रोसेस पर सीजेडए ने अपनी अंतिम मुहर लगा दी है। इस मंजूरी के बाद अब वन्य जीवन विभाग शेर को गुजरात से लाने की तैयारी में जुट गया है। वहीं, शेर को लाने से पहले इसके बाड़े की सही ढंग से मरम्मत की जाएगी। बाड़े का मरम्मत कार्य मुकम्मल होने के उपरांत शेर को गोपालपुर लाया जाएगा। शेर की एवज में चिडि़याघर से ब्लैक बीयर दंपत्ति (काला भालू) गुजरात भेजा जाएगा। गुजरात के चिडि़याघर में काला भालू नहीं है। ऐसे में दोनों चिडि़याघरों की कमी दूर हो जाएगी। गोपालपुर को शेर व गुजरात चिडि़याघर को काला भालू मिलेगा। बता दें कि गोपालपुर चिडि़याघर में वर्ष 2016 में अंतिम बार शेर को देखा गया था। शेर को देखने के लिए अकसर लोग चिडि़याघर पहुंचते हैं। इस जानवर की कमी पूरी करने के लिए वाइल्ड लाइफ विभाग ने सेंटर जू अथॉरिटी को लिखा था। काफी समय तक चले प्रोसेस के बाद सेंटर जू अथॉरिटी ने गुजरात से शेर लाने की अनुमति दी है। इसकी सूचना दोनों राज्यों के संबंधित विभागों को दी गई है। इसमें कहा गया है कि दोनों विभाग जंगली जानवरों को एक्सचेंज करेंगे। शेर के बदले गोपालपुर जू से भालू दंपत्ति को गुजरात भेजा जाएगा। अब दोनों राज्यों से इन जानवरों को भेजने की तैयारी हो रही है। यहां शेर लाने की अनुमति मिलने के बाद वाइल्ड लाइफ विभाग ने भी राहत महसूस की है। अब लोगों को चिडि़याघर में जंगल का राजा दिख जाएगा। संभव है कि प्रजनन के बाद यहां शेरों की संख्या में बढ़ोतरी हो। दोनों राज्यों के संबंधित विभाग जानवर भेजने व लाने संबंधी औपचारिकताएं पूरी करने में जुटे हुए हैं।

You might also like