चंबा और भरमौर के गायकों ने दिए ऑडिशन

आज तीसा-सलूणी-पांगी के लोकनृर्तकों व गायकों के हांेगे आडिशन, 85 ने पेश की दावेदारी

चंबा—अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेला के सांस्कृतिक संध्याओं में बेहतर स्थानीय गायकों व नृतक दलों के चयन हेतु गठित स्क्त्रीनिंग कमेटी की ओर से सोमवार को भी चंबा व भरमौर उपमंडल के गायकों व नृतक दलों के आडिशन लिए गए। इस आडिशन प्रक्त्रिया में 85 गायकों व नृतकदलों ने प्रस्तुतियां देकर अपनी दावेदारी पेश की। इन प्रतिभागियों ने स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष दमदार प्रस्तुतियां देकर खूब तालियां बटोरी। इस दौरान स्क्रीनिंग कमेटी ने प्रस्तुति पर प्रतिभागियों की पीठ थपथपाई तो खामी गिनाकर सुधारने की नसीहत भी दी। रविवार को आडिशन के पहले दिन चंबा व भरमौर के 76 गायक व नृतक दल अपनी दावेदारी कमेटी के सम्मुख पेश कर चुके हैं। बतातें चलें कि मिंजर मेला की सांस्कृतिक संध्याओं में स्तरीय स्थानीय लोकगायकों व नृतकदलों को स्थान देने के लिए जिला प्रशासन की ओर से स्क्त्रीनिंग कमेटी का गठन किया गया है। स्क्त्रीनिंग कमेटी की परख पर खरा उतरने वाले गायक व नृतकदल को ही मिंजर मेला के सांस्कृतिक मंच पर प्रस्तुति का मौका मिल पाएगा। इसके तहत ही चंबा में कमेटी सदस्यों द्धारा गायकों व नृतक दलों के आडिशन लिए जा रहे हैं, जोकि 24 जुलाई तक जारी रहेंगें। सोमवार को आडिशन के दूसरे दिन भी चंबा व भरमौर के 85 गायकों व नृतकदलों ने बेहतरीन प्रस्तुतियां देकर मिंजर मेला के सांस्कृतिक मंच हेतु दावेदारी पेश की। स्क्रीनिंग कमेटी की कसौटी पर खरा उतरने वालों के नाम बाद में सार्वजनिक किए जाएंगें। मंगलवार को आडिशन के तीसरे चरण में 23 जुलाई को को तीसा, सलूणी व पांगी के गायकों व नृतकदलों को मौका मिलेगा। उधर, जिला भाषा अधिकारी एवं स्क्त्रीनिंग कमेटी सदस्य सुरेश राणा ने बताया कि चंबा व भरमौर के नृतक दलों व गायकों के लिए दो दिनों तक चले आडिशन में कुल 161 ने अपनी प्रस्तुतियां देकर दावेदारी जताई है। उन्होंने कहा कि मंगलवार को तीसा, सलूणी व पांगी के गायकों व नृतक दल आडिशन प्रक्त्रिया का हिस्सा बनेंगे।

You might also like