चार करोड़ की नशीली दवाइयां जब्त

पंजाब में नशे के खिलाफ जारी अभियान के तहत 17 माह में टीमों की कड़ी कार्रवाई

चंडीगढ़ -पंजाब के फूड एंड ड्रग कमिश्नरेट के विंग ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा की गई गतिविधियों संबंधी जानकारी देते हुए केएस पन्नू, सीएफडी ने बताया कि जागरूकता अभियान और विश्वास निर्माण संबंधी उठाए गए कदमों की प्रारंभिक लड़ी के बाद कमिश्नरेट के अधिकारियों द्वारा साइकोट्रोपिक ड्रग्ज की बिक्री को रोकने और ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के अनुपालन के लिए राज्यव्यापी छापेमारी की गई। जनवरी 2018 से मई 2019 के बीच के 17 महीनों के दौरान कुल 13500 छापेमारियां की गईं और नशीली दवाओं के 5313 नमूने लिए गए। जब्त की गई नशीली दवाओं की कुल कीमत 4.5 करोड़ रुपए है। जब्त किए गए नमूनों की कराई गई कुल जांच के परिणामों में 11 नमूने मिस ब्रांडेड पाए गए और 203 मानक गुणवत्ता के नहीं थे। उन्होंने कहा कि 1414 फर्मों के लाइसेंस रद्द किए गए हैं, जिनमें से 1278 को आम उल्लंघन, जबकि 136 को लत डालने वाली दवाओं के चलते रद्द किया गया है। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ मुकद्मा चलाने के 171 आदेश जारी किए गए हैं और 139 मामलों में मुकद्मे शुरू किए जा चुके हैं। अब तक अदालत द्वारा 120 मामलों में निर्णय लिया जा चुका है, जिनमें 77 दोषी करार दिए जा चुके हैं जिनको तीन से पांच वर्ष तक की कैद व जुर्माने किए गए हैं, जबकि 14 अभियुक्तों को भगौड़ा करार दिया जा चुका है।

 

You might also like