चीन ने शिनजियांग को बताया अपना अविभाज्य हिस्सा

पेइचिंग -शिनजियांग में नजरबंदी शिविरों में जातीय उइगर मुसलमानों को कथित तौर पर हिरासत में रखने को लेकर चीन अंतरराष्ट्रीय आलोचनाओं का सामना कर रहा है। अब इस पर चीन ने रविवार को एक श्वेत पत्र जारी किया। इसमें कहा गया कि यह अस्थिर प्रांत देश का ‘अविभाज्य’ हिस्सा है और यह कभी ‘पूर्वी तुर्किस्तान’ नहीं रहा जैसा कि अलगाववादी दावा करते हैं। चीन पर आरोप है कि उसने भारत, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) और कई मध्य एशियाई देशों के साथ लगती सीमा पर शिनजियांग में नजरबंदी शिविरों में दस लाख लोगों को बंद कर रखा है, जिनमें से ज्यादातर उइगर हैं। इसको लेकर पश्चिमी देश उसकी तीखी आलोचना कर रहे हैं। खबरें हैं कि चीन ने अलगाववादी पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक आंदोलन (ईटीआईएम) के हिंसक हमलों को नियंत्रित करने के प्रयास में ऐसा किया। चीन अशांत शिनजियांग क्षेत्र और बीजिंग समेत देश के कई अन्य हिस्सों में कई हिंसक हमलों के लिए ईटीआईएम को जिम्मेदार ठहराता है।

You might also like