दियोटसिद्ध में ‘वे मनमोणेया बालक नाथा’

दियोटसिद्ध —गुरु पूर्णिमा का महोत्सव बाबा बालक नाथ दियोटसिद्ध की नगरी में धूमधाम से मनाया गया। गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य पर महंत निवास में हजारों श्रद्धालु पहुंचे और अपने गुरु श्रीश्रीश्री 1008 राजेंद्र गिरि जी महाराज से आशीर्वाद लिया। इसके अलावा बहुत सारे श्रद्धालुओं ने गुरु से नाम दान भी लिया। सोमवार शाम से ही गुरु के भक्त बाबा के दरबार में पहुंचने शुरू हो गए थे, जिसका सिलसिला मंगलवार देर शाम तक चलता रहा। गुरु के चरणों में हजारों के हिसाब से श्रद्धालु नतमस्तक हुए एवं कई हजारों श्रद्धालुओं ने नाम दान भी लिया। गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य पर महंत निवास में पहुंचे श्रद्धालुओं के लिए लंगर की व्यवस्था भी की गई थी। रात्रि ठहराव के लिए भी श्रद्धालुओं के लिए निवास की तरफ से ठहरने की व्यवस्था की गई थी। इसके अलावा बाबा बालक नाथ की चौकी भी लगाई गई। पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, जम्मू व देश के कोने-कोने से महंत राजेंद्र गिरी जी महाराज के भगत उनके आगे नतमस्तक होने के लिए नगरी में पहुंचे हुए थे। हिमाचल के प्रसिद्ध गायक पम्मी ठाकुर द्वारा बाबा बालक नाथ की भेटें गाकर पंडाल में बैठे श्रद्धालुओं को नाचने में मजबूर कर दिया। ‘वे मनमोणेया बालक नाथा’ के अलावा कलमा बाबा बालक नाथ की सुप्रसिद्ध गाकर पूजा पंडाल को नाचने में मजबूर कर दिया।

You might also like