ननखड़ी पंचायत भी बीपीएल मुक्त

ननखड़ी—ननखड़ी विकास खंड की ग्राम पंचायत थाना ननखड़ी, भी बीपीएल मुक्त हो गई है। इससे पहले यहां की एक अन्य पंचायत इससे बाहर हुई थी। रविवार को यहां भी ग्राम सभा ने अपनी पंचायत को बीपीएल मुक्त कर दिया है। थाना ननखड़ी पंचायत में अब कोई भी परिवार बीपीएल मंे नहीं है। ग्राम सभा में पारित यह प्रस्ताव सरकार को भेजा जाएगा जो इसे बीपीएल की श्रेणी से बाहर करेगी। दूसरे चरण की ग्राम सभा का आयोजन रविवार को ननखड़ी की पंचायतों में हुआ।  ननखड़ी पंचायत की ग्राम सभा प्रधान सरोजिनी मेहता की अध्यक्षता में हुई जिसमें कोरम पूरा पाया गया। सभी ग्रामीण ने एकमत से कहा कि सरकार के मापदंड के अनुसार बीपीएल में कोई घर नहीं आ रहा है। इसलिए ग्राम पंचायत थाना ननखड़ी को बीपीएल मुक्त किया जाए। 6 पंचायतों में यह आयोजन किया गया जहां बीपीएल के चयन के साथ स्वच्छता, नशा निवारण, वृद्धा पेंशन व कूड़ा कचरा उठाने का एजैंडा रखा गया था। जिन पंचायतों मंे ग्राम सभा हुई उनमें थाना ननखड़ी, शोली, गाहन, बगलती, देलट, बड़ाच शामिल हैं। दो ग्राम पंचायतों थाना ननखड़ी व शोली में कोरम पूरा हुआ था जबकि अन्य चार पंचायतों में कोरम पूरा नहीं हुआ। सभी ग्राम सभाओं के लिए विकास खंड से पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए थे। इसके अलावा थाना ननखड़ी पंचायत में यह प्रस्ताव भी पारित किया गया कि घर-घर कूड़ा उठाने के लिए 50 रूपए प्रति घर व ननखड़ी बाजार के दुकानदारों से 100 रुपए प्रति दुकान के हिसाब से राशि वसूल की जाएगी। इससे साथ खंड विकास कार्यालय से आए पर्यवेक्षक हरदेव धीमान ने मनरेगा में जो काम चल रहे हैं के बारे में ग्रामीणों को विस्तार से बताया। पंचायत की सभी कार्रवाई पर्यवेक्षक की देखरेख में हुई। पंचायत के उप प्रधान शमशेर ठाकुर के अलावा  पंचायत के सभी सदस्य बैठक में मौजूद रहे।

 

You might also like