नहीं बढ़ेगी कालेजों की फीस

हरियाणा सरकार ने दी राहत, जमा करवाई हुई राशि छात्रों को मिलेगी वापस

मोरनी – हरियाणा के विद्यार्थियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। राज्य के कालेजों व विश्वविद्यालयों में बढ़ी हुई फीस का विरोध कर रहे आंदोलनकारी छात्र-छात्राओं का संघर्ष रंग लाया है। सरकार ने बढ़ी हुई फीस का फरमान वापस ले लिया है। राज्य के विद्यार्थियों को अब पिछले साल की तरह ही फीस का भुगतान करना होगा। जिन विद्यार्थियों से फीस वसूली जा चुकी है, उन्हें अगले एक पखवाड़े के भीतर बढ़ाकर वसूली गई फीस वापस कर दी जाएगी। हरियाणा के सीएम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नार्थ जोन के क्षेत्रीय संगठन मंत्री विक्रांत खंडेलवाल की अगवाई में आगे प्रतिनिधिमंडल से बातचीत के बाद बढ़ी हुई फीस वापस करने के आदेश जारी किए हैं। सीएम ने स्पष्ट किया कि राज्य के कालेजों के छात्रों से शैक्षणिक सत्र 2019-20 में पिछले शैक्षणिक सत्र की तर्ज पर ही फीस ली जाएगी और 15 दिनों के भीतर बढ़ी हुई फीस को भी संबंधित कालेजों द्वारा छात्रों को वापस कर दिया जाएगा। उच्चतर शिक्षा विभाग ने फीस बढ़ाने के साथ ही पांच तरह के शुल्क जैसे विश्वविद्यालय योग्यता फीस, विश्वविद्यालय पूर्व छात्र शुल्क, डा. अब्दुल कलाम फीस, आडियो-वीडियो एंड फीस और करियर काउंसलिंग फीस बढ़ाने के फरमान जारी किए थे। मुख्यमंत्री से हुई बातचीत में इन बढ़े हुए शुल्क को वापस लेने पर फिलहाल कोई फैसला नहीं हुआ, लेकिन बढ़ी हुई फीस नहीं ली जाएगी। सीएम ने मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों के सभी कुलपतियों को निर्देश दिए कि वे पिछले सत्र में लागू फीस स्ट्रक्चर को ही शैक्षणिक सत्र 2019-20 में भी लागू करें।

You might also like