पढ़ाई पर बच्चों को न लगाएं फटकार

जीएवी कांगड़ा में सीबीएसई की वर्कशॉप में जुटे 50 स्कूलों के 85 शिक्षक

कांगड़ा—जीएवी पब्लिक स्कूल कांगड़ा में लिंग भेद पर 85 शिक्षकों की दिन भर क्लास लगी रही। मौका था सीबीएसई वर्कशॉप का, जिसमें जिला कांगड़ा के 50 स्कूलों ने उपस्थिति दर्ज करवाई  और संवेदनशील विषय पर सीबीएसई के मापदंडों व सरकार के नियमों से पारंगत हुए। जेंडर सेंसटिविटी पर आयोजित वर्कशॉप में राष्ट्रीय अवार्ड से अलंकृत अनुपमा शर्मा ने शैक्षणिक संस्थानों व समाज में घटित हर एक पहलू पर शिक्षकों से चर्चा कर अनुभव साझा किए और साथ में कानून क्या कहता है और कैसे उसकी अनुपालना करनी है से आगाह किया।  प्रधानाचार्य सुनीलकांत चड्डा ने रिसोर्स पर्सन अनुपमा  व अतिथि शिक्षकों का स्वागत किया। श्री चड्डा ने शिक्षकों से अपील की कि वे नियमों का पालन करें तथा छात्र-छात्राओं में कोई भेदभाव न करें।  वर्कशॉप की शुरुआत में मैडम ने बताया कि समाज बदलाव के दौर से गुजर रहा है । पुरुष प्रधान समाज में अब महिलाएं वे सब कार्य कर रहीं हैं, लेकिन पुरुष महिलाओं के कार्य करने में बेइज्जती समझते हैं। यही सोच हमें छात्रों के द्वारा बदलनी होगी। उन्होंने बताया कि पुराने समय में लड़के  व लड़कियों की हर एक्टिविटी अलग होती थी, लेकिन आज जमाना बदल चुका है । मैडम ने सुझाव दिया कि क्लास में लड़का व लड़की दो मॉनीटर बनाए जाएं । स्कूल के कार्यक्रमों में बराबर सहभागिता सुनिश्चित करें व क्लास में हर छात्र तक पहुंच बनाएं और कमजोर  छात्र का विशेष ध्यान रखें। पढ़ाई को लेकर किसी भी छात्र को फटकार न लगाएं । सुबह नौ  से सायं  चार बजे तक वर्कशॉप चलती रही। जीएवी प्रशासन ने मेहमानों के स्वागत में कांगड़ी धाम व ब्रेकफास्ट का विशेष प्रबंध किया था।

You might also like