पराड़ा गांव हिंदू-सिख भाईचारे का प्रतीक

यहां मांगी गई बेटियों के पैदा होने पर दुआएं, अब हर वर्ष लगता है तीन दिवसीय मेला

नाहन –जिला सिरमौर के सैणधार क्षेत्र मंे एक ऐसा गांव है, जहां लड़कियों के पैदा होने के लिए गांव वालों द्वारा दुआ मांगी जाती है। वहीं इस उपलक्ष्य पर यहां तीन दिवसीय श्रावण तीज पर मेले का भी आयोजन होता है। वहीं यह दुआ कबूल होने पर यहां गुरु की ध्वजा के साथ पूरे गांव में प्रसाद वितरण किया जाता है। जिला के सैणधार के पराड़ा गांव की कहानी बालिकाओं के लिए देखी जाए तो सामने आया कि सदियों पूर्व यहां के गांव में कन्या लोगों को पूजने तक को भी नहीं मिलती थी, जिसके बाद इस चिंतनीय विषय को विचार-विमर्श के बाद ग्रामीणों ने झंडा जी गुरु स्थान चौकी में गुरु नानक देव जी महाराज के स्थान पर इस मनोकामना के लिए अर्ज लगाई कि यदि गांव में बेटी का जन्म होगा तो पराड़ा गांव में गुरु स्थान को स्थापित किया जाएगा। देव कृपा से पराड़ा गांव में बेटियों का जन्म आरंभ हुआ। वहीं ग्रामीणों ने इस उपलक्ष्य पर हरियाली श्रावण मास की तीज से तीन दिवसीय मेले का शुभारंभ किया, जिसमें गांव में किसी भी घर में पुत्री का जन्म होने पर वह परिवार स्वेच्छा से गांव में गुरु महाराज की प्रतीकात्मक झंडा की ध्वजा फहराता है। वहीं किसी भी शुभ कार्य से पूर्व भी प्रतीकात्मक झंडा की ध्वजा गुरु महाराज को चढ़ाई जाती है। पराड़ा के नवयुवक मंडल के प्रधान अर्जुन अत्री ने बताया कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी पराड़ा गांव में तीन दिवसीय हरियाली मेला इस याद स्वरूप आयोजित किया गया। उन्होंने बताया कि यह मेला पराड़ा गांव में हिंदू सिख आपसी भाईचारे का प्रतीक भी बना है। वहीं उन्होंने बताया कि बेटी बचाओ के नारे को पराड़ा गांव ने पूरी तरह सार्थक किया है। उन्होंने बताया कि तीन दिवसीय हरियाली मेले के दौरान पूरे गांव की ब्याही हुई बेटियों को आमंत्रित कर झंडा शोभा यात्रा में ढोल-नगाढ़ों के साथ भाग लिया गया। वहीं पूरे गांव के प्रत्येक घर से झंडाजी का भोग एकत्रित हुआ, जिसमंे आटा, गुड़ और देशी घी एकत्रित कर सामूहिक प्रसाद तैयार कर वितरित किया गया। वहीं इस वर्ष यह उत्सव खास इसलिए भी रहा कि बेटियों के हाथों से झंडा फहराने की रस्म अदा हुई तथा इसके बाद बेटियों ने यहां पौधारोपण किया। इस दौरान मेले में मुख्यातिथि गांव की ही बेटी जिला परिषद सदस्य श्यामा ठाकुर को बतौर मुख्यातिथि आमंत्रित किया गया, जिन्होंने मेले का शुभारंभ द्वीप प्रज्वलित कर किया।

You might also like