पीएचडी में करियर : जानिए क्या है पीएचडी

सामान्य तौर पर, हालांकि, पीएचडी एक छात्र द्वारा प्राप्त की जा सकने वाली डिग्री का उच्चतम स्तर होता है। यह आमतौर पर एक मास्टर की डिग्री का अनुसरण करता है, हालांकि कुछ संस्थान छात्रों को अपनी स्नातक की डिग्री से सीधे पीएचडी तक प्रगति करने की अनुमति देते हैं…

पीएचडी एक विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त स्नातकोत्तर शैक्षणिक डिग्री है, जो विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों द्वारा एक उम्मीदवार को दी जाती है, जो अपने चुने हुए क्षेत्र में व्यापक और मूल शोध के आधार पर एक थीसिस या शोध प्रबंध प्रस्तुत करता है। उस अंतिम वाक्य पर एक और नजर डालें, क्योंकि यह संभवतः एक ही चीज हो सकती है जो पीएचडी के बारे में कहा जा सकता है, जो देश, संस्थान और एकेडमिक क्षेत्र की परवाह किए बिना सच है। इसके अलावा, पीएचडी डिग्री की विशिष्टताएं इस बात पर निर्भर करती हैं कि आप कहां हैं और आप किस विषय में पूर्ण रूप से अध्ययन कर रहे हैं। सामान्य तौर पर, हालांकि, पीएचडी एक छात्र द्वारा प्राप्त की जा सकने वाली डिग्री का उच्चतम स्तर होता है। यह आमतौर पर एक मास्टर की डिग्री का अनुसरण करता है हालांकि कुछ संस्थान छात्रों को अपनी स्नातक की डिग्री से सीधे पीएचडी तक प्रगति करने की अनुमति देते हैं। कुछ संस्थान आपके पीएचडी के लिए ‘मास्टर-डिग्री’ को ‘अपग्रेड’ या ‘फास्ट-ट्रैक’ करने का अवसर भी प्रदान करते हैं, बशर्ते आपको आवश्यक ग्रेड, ज्ञान, कौशल और अनुसंधान क्षमताओं के अधिकारी समझा जाए। परंपरागत रूप से, एक पीएचडी में पूर्णकालिक अध्ययन के तीन से चार साल शामिल होते हैं यदि अंशकालिक अध्ययन किया जाए तो छह साल या उससे अधिक हो सकता है, जिसमें छात्र एक शोध या शोध प्रबंध के रूप में प्रस्तुत किए गए मूल शोध का एक बड़ा टुकड़ा पूरा करता है। इसके बजाय कुछ पीएचडी कार्यक्रम प्रकाशित पत्रों के एक पोर्टफोलियो को स्वीकार करते हैं, जबकि कुछ देशों को शोध के रूप में भी प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है।

समझें पीएचडी  डिग्री का मूल्य ज्ञान

सबसे पहले, आपको यह समझने की आवश्यकता है कि पीएचडी डिग्री का मूल्य ज्ञान और कौशल के संदर्भ में मापा जाता है। तभी आप पूरी तरह से पीएचडी के बाद के करियर ओप्तिओंस में से चयन कर पाएंगे आपको अपनी पसंद के करियर में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए इन दोनों लक्षणों का होना आवश्यक है। सामान्य तौर पर, पीएचडी के बाद करियर ऑप्शन में सबसे ज्यादा मांग यूनिवर्सिटी प्रोफेसर, इंडस्ट्रियल आरएंडडी लैब प्रोफेशनल्स और स्टार्ट-अप मेंटर्स की होती है। औद्योगिक अनुसंधान और विकास संगठनों ने पीएचडी समूहों को समर्पित किया है जो अनुसंधान गतिविधियों में शामिल हैं, नए उत्पादों को डिजाइन करते हैं और महत्त्वपूर्ण रणनीतिक बैठकों में भाग लेते हैं। विकास केंद्रों की तुलना में, औद्योगिक अनुसंधान एवं विकास प्रयोगशालाओं में औसत वेतन बहुत अधिक है। यह स्पष्ट रूप से बताता है कि 5 साल के अनुभव के साथ एक इंजीनियरिंग स्नातक एक ताजा पीएचडी स्नातक से कम कमाएगा जो हाल ही में एक औद्योगिक आरएंडडी लैब में शामिल हुआ है। कुछ मामलों में, विकास केंद्र विशेष अनुसंधान एवं विकास प्रयोगशालाओं की तुलना में लगभग समान या उससे अधिक वेतन के साथ कई भूमिकाओं के लिए पीएचडी स्नातकों को नियुक्त करते हैं। रिसर्च लैब या डेवलपमेंट सेंटर से जुड़ने वाले पीएचडी ग्रेजुएट की वेतन संरचना और पदनाम हमेशा समृद्ध अनुभव वाले किसी भी अन्य स्नातक की तुलना में अधिक होता है।

पीएचडी के बाद करियर ऑप्शन

वित्तीय क्षेत्र से सार्वजनिक क्षेत्र तकए पीएचडी अब हर जगह पाए जाते हैं क्योंकि वे एकेडमिक क्षेत्र में काम करने के लिए सीमित नहीं हैं। अब-एक-दिन, कॉर्पोरेट वातावरण में काम करने और अपने कौशल का उपयोग करने के लिए पेशेवर अपने पीएचडी को पूरा करने के बाद एकेडमिक अनुसंधान से एक बदलाव करने के लिए तैयार हैं। यह ध्यान रखना महत्त्वपूर्ण है कि बैंकिंग क्षेत्र में काम करने के लिए आपके पास वित्त में पीएचडी होना आवश्यक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एकेडमिक शोध से बदलाव आपके अध्ययन के क्षेत्र से परे जा सकता है।

एकेडमिक क्षेत्र पीएचडी धारकों की पहली पसंद

कार्य की स्वतंत्रता और आकर्षक वेतन पैकेज के कारण एकेडमिक क्षेत्र पीएचडी  युवाओं की पहली पसंद बन गया है। ज्यादातर मामलों में, शिक्षाविदों को नौकरियों में मुफ्त आवास  जैसी सुविधाएं भी मिल जाती हैं।  इसके अलावा, पीएचडी धारकों के लिए अन्य देशों में काम करने का मौका भी मिल जाता है। पीएचडी उम्मीदवारों को काम पर रखने के लिए संगठन जो सबसे अच्छी चीज देखते हैं, वह है बेहतर विश्लेषणात्मक कौशल और जटिल समस्याओं को हल करने की क्षमता।

पीएचडी ः यह डिग्री से ज्यादा विशेष है

अपनी डिग्री पर केवल ‘डाक्टर’ की रबड़ लगी होने पर गर्व महसूस करने से आपको कोई बढि़या जॉब नहीं मिलेगी।  यह बहुत अच्छी बात है कि आप एक पीएचडी ग्रेजुएट हैं। हालांकि, पीएचडी सिर्फ डिग्री की तुलना में कहीं ज्यादा महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इसमें ट्रेनिंग और नॉलेज पर आधारित रिसर्च एक्टिविटीज को ज्यादा महत्त्व दिया जाता है। पीएचडी में रिसर्च इश्यूज की बेहतरीन समझ के साथ ही गहन रिसर्च कार्य और अति विशेष एनालिटिकल और ऑब्जरवेशनल स्किल्स के साथ महत्त्वपूर्ण समस्याओं को सॉल्व करने की काबिलियत शामिल है। किसी पीएचडी ग्रेजुएट को कई घंटे लगातार काम करना, जटिल समस्याओं को एनालाइज और सॉल्व करना और शांति से हरेक परिस्थिति को हैंडल करना जरुर सीखना चाहिए। ये गुण न केवल किसी एकेडेमिक एक्सपर्ट के लिए बहुत जरुरी हैं बल्कि, रिसर्च, फाइनेंस और पब्लिक सर्विस जैसे अन्य कार्यक्षेत्रों के लिए भी अनिवार्य हैं।

बीते वर्षों में पीएचडी का टें्रड कैसे बदला

स्टार्ट-अप्स की शुरुआत ने पूरे पीएचडी परिवेश को बदल दिया है। कुछ समय पहले तक, पीएचडी का कार्यक्षेत्र सिर्फ  एकेडमिक क्षेत्र तक ही सीमित था। यद्यपि आजकल, एकेडमिक क्षेत्र और स्टार्ट-अप्स के मिश्रण से पीएचडी ग्रेजुएट्स को कई नए ऑप्शन्स मिल गए हैं। क्योंकि स्टार्ट-अप्स इनोवेशन और इम्प्रोवाइजेशन का स्टोरहाउस बन चुके हैं तो पीएचडी ग्रेजुएट्स किसी नए और उभरते हुए संगठन में काम करना चाहते हैं ताकि अपनी एक्सेप्शनल रिसर्च एंड डेवलपमेंट क्षमताओं के माध्यम से नए प्रोडक्ट्स को डिजाइन करने के लिए वे अपने नॉलेज बेस्ड स्किल्स का उपयोग कर सकें। आजकल, पीएचडी ग्रेजुएट्स स्टार-अप परिवेश में काम तलाश रहे हैं ताकि उन्हें अच्छा काय-अनुभव प्राप्त हो जाए और फिए वे एकेडमिक क्षेत्र ज्वाइन कर लें, जहां पर वे अपने स्किल्स और विशेषज्ञता का प्रोडक्टिव तरीके से उपयोग कर सकें।

You might also like