पुलिसवालों को नहीं, भ्रष्ट नेताओं को मारें आतंकी

श्रीनगर –जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को एक विवादित बयान दिया है। मलिक ने कहा कि आतंकियों को पुलिसवालों की जगह पर भ्रष्ट नेताओं और नौकरशाहों की हत्या करनी चाहिए। दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने गर्वनर के इस बयान की निंदा की है। दरअसल कारगिल में भाषण के दौरान राज्यपाल ने कहा कि ये लड़के जो बंदूक लिए फिजूल में अपने लोगों को मार रहे हैं। पीएसओ, एसडीओ को मारते हैं। क्यों मार रहे हैं इनको? उन्हें मारो जिन्होंने तुम्हारा मुल्क लूटा है, जिन्होंने कश्मीर की सारी दौलत लूटी है। इनमें से भी कोई मारा है अभी? बंदूक से कुछ हासिल नहीं होगा। इससे पहले मलिक का नाम विवादों से तब जुड़ा था, जब मलिक ने अचानक कहा था कि आतंकियों की मौत पर भी उन्हें दुख होता है। मलिक ने कहा था कि पुलिस अपना काम बहुत अच्छे से कर रही है, लेकिन अगर एक भी जान जाती है, चाहे वह जान आतंकी की भी क्यों न हो, तो मुझे तकलीफ होती है। बता दें कि राज्य में राज्यपाल शासन जून 2018 में लगाया गया था, जब भाजपा ने प्रदेश में गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था और पीडीपी नीत सरकार अल्पमत में आ गई थी। इसके बाद दिसंबर 2018 में राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। हाल ही में गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की अवधि को छह महीने बढ़ाने का प्रस्ताव किया था। शाह ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर में अभी विधानसभा अस्तित्व में नहीं है, इसलिए मैं यह विधेयक लेकर आया हूं कि छह माह के लिए और राष्ट्रपति शासन को बढ़ाया जाए।

You might also like