पुलिस गश्त होती तो हिम्मत न करते लुटेरे   

पांवटा साहिब—कफोटा में गत रात्रि हुए एसबीआई के एटीएम में चोरी के असफल प्रयास ने क्षेत्र की कानून व्यवस्था की पोल खोल दी है। क्षेत्र के लोग लंबे समय से कफोटा में पुलिस चौकी खोलने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार की तरफ से इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि यदि कफोटा में नियमित रात्रि गश्त होती या पुलिस चौकी होती तो एटीएम में चोरी का प्रयास करने वाला आरोपी चोर पकड़ा जाता। जानकारी के मुताबिक शिलाई विस क्षेत्र का दूसरा केंद्र बिंदू कफोटा कस्बे में पुलिस चौकी खोलने की मांग लंबे समय से की जा रही है। क्षेत्र के लोग बढ़ते अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए इसे बड़ा माध्यम मान रहे है। कफोटा कस्बा क्षेत्र की करीब डेढ़ दर्जन पंचायतों का केंद्र है। यहां पर चारों तरफ से दिन भर आवाजाही रहती है। आए दिन कफोटा में कोई न कोई आपराधिक मामला सामने आता है। कफोटा में अब डिग्री कालेज भी संचालन में है। इसके अलावा रावमा पाठशाला समेत आईटीआई व निजी स्कूल खुले हुए हैं। एसबीआई का बैंक व एटीएम है, सरकारी कार्यालय है, राज्य सहकारी बैंक है, निजी बैंकिं सोसायटियों के कार्यालय भी है। पुलिस गश्त के अभाव में यहां पर दुकानों व बैंक में कई बार चोरियों की घटनाएं भी हो चुकी हैं। हाल ही मंे एटीएम में चोरी का असफल प्रयास हुआ। इससे क्षेत्र में पुलिस चौकी की आवश्यकता महसूस हो रही है। कफोटा व्यापार मंडल के पूर्व प्रधान हृदय राम पुंडीर, सोभा राम चौहान, कमलेश पुंडीर, दुगाना पंचायत के उपप्रधान रामानंद चौहान आदि का कहना है कि कफोटा में पुलिस चौकी की जरूरत है। यहां से शिलाई थाने की दूरी जहां 30 किलोमीटर है, वहीं राजबन पुलिस चौकी यहां से करीब 32 किलोमीटर दूर है। ऐसे में जब भी कफोटा में कोई क्राइम होता है तो दोनों स्टेशनों से पुलिस को पहुंचने में समय लगता है। इसलिए यहां पर पुलिस चौकी खोलना बहुत जरूरी है। उधर, इस बारे डीएसपी पांवटा सोमदत्त ने बताया कि वैसे तो राजबन चौकी और शिलाई पुलिस थाने से पुलिस कर्मी गश्त पर कफोटा जाते रहते हैं।

You might also like