बिना फिटनेस लंबे रूट पर भेजी जा रही वोल्वो बसें

बीच रास्ते में हांफी एचआरटीसी; न लौटाया किराया न वैकल्पिक व्यवस्था की, 34 यात्रियों को झेलनी पड़ी भारी परेशानी

सुंदरनगर -लंबी दूरी के रूटों पर एचआरटीसी द्वारा बिना फिटनेस के बसें भेजे जाने का खामियाजा पर्यटकों को भुगतना पड़ रहा है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जब मनाली से चंडीगढ़ जाने वाली बस (एचपी 63 7522)  कीरतपुर से दस किलोमीटर पीछे पंजाब हिमाचल बॉर्डर पर खराब हो गई, जिससे उसमें बैठीं 34 सवारियों को भारी परेशानी झेलनी पड़ी और तकरीबन दो घंटे सड़क पर ही गुजारने पड़े। सवारियों द्वारा परिवहन मंत्री, एचआरटीसी कम्प्लेंट सेल, डीएम, आरएम व अड्डा इंचार्ज कुल्लू डिपो को फोन पर संपर्क कर वैकल्पिक व्यवस्था  करने व गन्तव्य पर भेजने की मांग की, लेकिन बार-बार मांग के बावजूद न तो बस भेजने की व्यवस्था की गई न ही किराया लौटाया गया, जिस पर सवारियों ने अपने स्तर पर कीरतपुर से तीन वाहन मंगवाए और चंडीगढ़ के लिए रवाना हुए। उधर, कुल्लू अड्डा इनचार्ज का कहना है कि मामले की सूचना सवारियों, परिचालक द्वारा दी गई थी। विकल्प के तौर पर इस रूट पर चलने वाली अन्य बसों में भी कोई भी सीट खाली न थी। टैक्सी उपलब्ध करवाने और उसका किराया रिफंड करने का कोई प्रावधान नहीं है। तय हो चुकी दूरी उपरांत गन्तव्य तक आर्डिनरी बस का किराया निवेदन उपरांत ही रिफंड हो सकता है। वहीं, आरएम कुल्लू देवेंद्र नारंग का कहना है कि बस के खराब होने की सूचना मिली थी। चालक व परिचालक को व्यवस्था करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

 

 

You might also like