भविष्य में कभी नहीं खेलूंगा सुपर ओवर

लंदन – निर्धारित ओवरों के बाद सुपर ओवर में भी दमदार बल्लेबाजी कर इंग्लैंड को चैंपियन बनाने वाले ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने कहा है कि वह सुपर ओवर नहीं खेलना चाहते थे, लेकिन कप्तान इयोन मॉर्गन के कहने पर उन्होंने यह जिम्मेदारी संभाली। स्टोक्स ने 241 रन का पीछा करने उतरी इंग्लैंड के लिए नाबाद 84 रन की पारी खेली थी और फिर सुपर ओवर में भी बल्लेबाजी करने आए थे। स्टोक्स ने कहा कि उन्होंने सुपर ओवर के लिए बटलर के साथ जेसन रॉय का नाम सुझाया था। उन्होंने कहा, मैंने कहा था कि हमें जोस बटलर और जेसन को भेजना चाहिए, लेकिन मॉर्गन ने कहा कि हमें दाएं और बाएं का संयोजन बनाना है इसलिए मुझे भेजा गया। सुपर ओवर में पहुंचे फाइनल में नतीजा टाई रहा था और इंग्लैंड ने बाउंड्रीज के आधार पर न्यूजीलैंड को मात दे विश्व विजेता बनने का गौरव हासिल किया। सुपर ओवर में बोलिंग के विकल्प पर उन्होंने कहा, मुझे शावर रूम में जाना पड़ा था और अपने आप को पांच मिनट का समय देना पड़ा था। मैं निश्चित तौर पर दोबारा गेंदबाजी नहीं कर सकता था। स्टोक्स ने कहा कि वह जीत के पल में मैदान पर रोने लगे थे। उन्होंने कहा, मैं मैदान पर गिर गया था। मैंने मार्क वुड के चश्मे पहने थे। मुझे लगा कि मैंने उन्हें तोड़ दिया है। इंग्लैंड के इस हरफनमौला खिलाड़ी ने टीम को चैंपियन तो बना दिया, लेकिन साथ ही कहा, मैं अब कभी भी सुपर ओवर का हिस्सा बनना नहीं चाहता।  

You might also like