भाजपा के कलराज मिश्र हिमाचल के राज्यपाल

शिमला -पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र हिमाचल प्रदेश के अगले राज्यपाल होंगे। राष्ट्रपति भवन ने सोमवार को कलराज मिश्र की नियुक्ति की घोषणा कर दी है। इसी बीच, हिमाचल के राज्यपाल आचार्य देवव्रत को गुजरात भेजा गया है। गुजरात में सेवाएं दे रहे राज्यपाल ओपी कोहली के सेवानिवृत्त होने के बाद राष्ट्रपति भवन से ये तबादला आदेश जारी हुए हैं। बताते चलें कि 78 वर्ष के कलराज मिश्र मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के बेहद करीबी मित्र हैं। मुख्यमंत्री बनने के बाद जयराम ठाकुर ने कलराज मिश्र से परिवार सहित विशेष भेंट की थी। इसके अलावा हिमाचल के प्रभारी रहे कलराज मिश्र के साथ सीएम के एक दशक पुराने पारिवारिक संबंध हैं। बताते चलें कि कलराज मिश्र हिमाचल को बेहद करीब से जानते हैं। मोदी सरकार में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री रहे कलराज मिश्र ने 75 साल की आयु सीमा के चलते 2017 में मंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया था। आयु सीमा के चलते ही कलराज मिश्र लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाए थे। उन्हें अब राज्यपाल के पद का दायित्व सौंप कर उनका सम्मान बढ़ाया गया है। वह हिमाचल के 27वें राज्यपाल होंगे। हिमाचल में सेवाएं दे रहे आचार्य देवव्रत अगस्त 2020 में रिटायर हो रहे हैं। इसी बीच उनका तबादला गुजरात में किया गया है। जाहिर है कि आचार्य देवव्रत हिमाचल में जीरो बजट खेती को लेकर खूब सुर्खियों में रहे हैं। इसके अलावा सोलन के डीसी व एसपी के तबादले को लेकर भी आचार्य देवव्रत का नाम सियासी गलियारों में खूब गूंजा था। अपनी नियुक्ति के दौरान ही उनका पूर्व की वीरभद्र सरकार के साथ छत्तीस का आंकड़ा रहा था। एक करोड़ की मर्सीडीज कार के कारण भी राजभवन चर्चा में रहा था। हालांकि नशे के खिलाफ और जीरो बजट खेती को लेकर आचार्य देवव्रत के प्रयासों की सराहना भी होती रही है। राष्ट्रपति भवन से सोमवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, नए राज्यपालों के कार्यकाल उसी दिन से प्रभावी माने जाएंगे, जब वे अपना कार्यभार संभाल लेंगे। भाजपा के भीतरी सूत्रों के अनुसार मोदी सरकार में कुछ और बुजुर्ग और वरिष्ठ नेताओं को राज्यपाल बनाने पर विचार किया जा रहा है। ऐसी सूची राष्ट्रपति भवन से शीघ्र ही जारी कराई जा सकती है।

You might also like