मिट्टी बताएगी बिल्डिंग का सच

सोलन—कुम्मारहट्टी हादसे के बाद गठित हुई विशेष जांच टीम ने जांच और तेज कर दी है। मंगलवार को मिट्टी के सैंपल लेने के बाद बुधवार को टीम ने चिट्टी लिखकर राजस्व विभाग से भूमि संबंधी पूरा ब्यौरा मांगा है। एसआईटी ने चिट्टी में साफ किया है कि इस भूमि का शुरू से कौन मालिक है और ये जो बिल्डिंग गिरी है कब बनी थी। दूसरी और एकत्र किए मिट्टी के नमूनों को भी आगामी जांच के लिए एफएसएल जुन्गा भेज दिया गया है। मिट्टी की जांच की रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा कि वहां भूमि रहने योग्य थी भी या नहीं।  कहा जा रहा है कि बिल्डिंग के नीचली मंजिल में बने सीवरेज टैंक में काफी समय से रिसाव हो रहा था। इस वजह से बिल्डिंग की नींव खोखली हो गई थी। इन सब बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए एसआईटी की पूरी टीम जांच को आगे बढ़ा रही है। बता दे कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोमवार को स्वयं मौके पर पहुंच कर बिल्डिंग गिरने के मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए थे। इसका जिम्मा डीसी सोलन का सौंपा गया था। डीसी ने इसकी विस्तृत जानकारी जुटाने के लिए एसडीएम सोलन को जांच की जिम्मेदारी दी और 15 दिन के भीतर रिपोर्ट तैयार करने को कहा है। इसके बाद मंगलवार को पुलिस प्रशासन की विशेष जांच टीम का गठन भी किया गया है। एसआईटी के गठन होने के बाद तुरंत हरकत में आते हुए पुलिस एवं प्रशासन की टीम ने  घटनास्थल पर जाकर मिट्टी के सैंपल एकत्र किए। इसके अतिरिक्त टीम ने कई प्रकार की अन्य जानकारियां भी स्थानीय लोगों से जुटाई है। इस दौरान टीम ने दर्जनभर लोगों से इस बारे में बातचीत भी की।  गौर रहे कि बीते 14 जुलाई को कुमारहट्टी के समीप एक चार मंजिला बिल्डिंग जमींदोज हो गई थी। इसमें 13 जवानों सहित कुल 14 लोगों की जान चली गई थीं।

You might also like