यूएस में बलूचों के निशाने पर इमरान

वाशिंगटन -अमरीका के तीन दिवसीय दौरे पर पहुंचे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को अपने ही देश के विभिन्न समुदायों के पुरजोर विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इमरान को एक सभागार में भाषण के दौरान युवा बलोचों के एक समूह ने पाकिस्तान के खिलाफ और आजाद बलूचिस्तान के लिए नारेबाजी की। वहीं, मुहाजिर, बलोच, पश्तून, सिंधी, गिलगित बाल्टिस्तान और सराइकी समुदायों के लोगों ने व्हाइट हाउस के सामने प्रदर्शन करने के योजना बनाई। इमरान पाकिस्तानी मूल के अमरीकियों की विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे, जब बलोच युवा अचानक से अपनी सीटों पर खड़े हो गए और नारेबाजी करने लगे। पाकिस्तानी सुरक्षा बलों द्वारा बलोचों पर किए जा रहे कथित अत्याचार, उनकी अकारण गुमशुदगी और मानवाधिकार उल्लंघनों के खिलाफ अमरीका में रह रहे बलोच लगातार आवाज उठाते रहे हैं। पिछले दो दिनों से वे मोबाइल बिलबोर्ड अभियान चला कर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से पाकिस्तान में बलोचों को गुप्त तरीके से अगवा किए जाने की घटनाओं पर लगाम लगाने में मदद करने की अपील कर रहे हैं। खान के मंच से काफी दूर खड़े होकर तीन बलोच युवा नारे लगा रहे थे। हालांकि खान ने बिना रुके अपना भाषण जारी रखा। करीब अढ़ाई मिनट के बाद स्थानीय सुरक्षा कर्मियों ने तीनों को सभागार से जाने को कहा। इमरान खान के कुछ समर्थकों को बलोच युवाओं को पीछे धकेलते हुए और स्टेडियम से बाहर जाने के लिए कहते हुए देखा गया। मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट के सदस्यों और समर्थकों ने भी यूएस कैपिटॉल के सामने पाक पीएम का शांतिपूर्ण विरोध किया। उन्होंने पीएम इमरान खान और पाक के खिलाफ नारे लगाए और आरोप लगाया कि कराची समेत पाकिस्तान के दूसरे हिस्सों में भी मुहाजिरों के मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है।

You might also like