लिटरा जी स्कूल के छात्रों ने दिखाई प्रतिभा

पठानकोट। माउंट लिटरा जी स्कूल पठानकोट के छात्रों ने विश्व पर्यावरण दिवस के थीम को मद्देनजर रख कर अनुपयोगी वस्तुओं का इस्तेमाल करके बहुत सारी सुंदर वस्तुएं बनाईं। छात्रों ने अनुपयोगी वस्तुएं जैसे कि प्लास्टिक की बोतलें, अखबारें, डिस्पोजल वस्तुएं का प्रयोग करके उन्होंने फोटोफ्रेम, फूलदान, पेन स्टैंड, टोकरी बनाई। इस प्रक्रिया से छात्रों के अंदर की छिपी प्रतिभा को बाहर लाना और उनको स्वच्छ भारत के अभियान से भी जोड़ना है। कार्यशाला के दौरान अध्यापकों ने छात्रों को बताया  कि आमतौर पर हम प्लास्टिक की बोतल एक बार इस्तेमाल करने के बाद  उसे फेंक देते हैं, जोकि पर्यावरण को दूषित करती है, क्योंकि इसके निर्माण के दौरान कई खतरनाक रसायन निकलते हैं, जिससे मनुष्य और साथ ही अन्य जानवरों में भी भयानक बीमारियां हो सकती हैं। प्लास्टिक महंगा नहीं है, इसलिए यह अधिक उपयोग किया जाता है। प्लास्टिक ने हमारी भूमि पर कब्जा कर लिया है, जब इसको समाप्त किया जाता है, तो यह आसानी से विघटित नहीं होता है और वह उस क्षेत्र के भूमि और मिट्टी को प्रदूषित करता है, क्योंकि पॉलिथीन ऐसे रसायनों से बनाया जाता है, जो जमीन में सैंकड़ों वर्ष तक गाड़ देने से भी नष्ट नहीं होता। अंत में प्रधानाचार्य बलविंदर कौर ने छात्रों को समझाया कि हमें शॉपिंग के लिए जितना संभव हो पेपर या कपड़े से बने बैग का उपयोग करना चाहिए।

You might also like