संघर्ष खत्म, अब मिलेगा रोजगार

बालीचौकी—ग्रामीण कामगार संगठन व नारी सभा के आमरण अनशन व धरने के बीच जानकारी सामने आई है कि बालीचौकी विकास खंड में 2500 मजदूरों को मनरेगा में रोजगार दिया गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पंचायत बालीचौकी में 600, माणी में 550, थाची में 1400 के आसपास मनरेगा मजदूरों को रोजगार दिया गया है और क्षेत्र की अन्य पंचायतों के हजारों मनरेगा मजदूरों को रोजगार देने के प्रक्रिया जोरों पर है। बता दें कि ग्रामीण कामगार संगठन के अध्यक्ष व जिला परिषद सदस्य संत राम व नारी सभा ने खंड विकास कार्यालय बालीचौकी के प्रांगण में 15 जुलाई से मनरेगा में रोजगार देने व मनरेगा मजदूरों की अन्य मांगों को लेकर के आमरण अनशन व धरना प्रदर्शन शुरू किया था। 16 जुलाई देर शाम को विकास खंड अधिकारी बालीचौकी चेत राम ने उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया और आमरण अनशन पर बैठे जिला परिषद के सदस्य संत राम व नारी सभा की अध्यक्ष राधा देवी, सचिव गीता शर्मा, सदस्य आशा देवी, शाढी देवी तथा प्रधान पार्वती देवी, दुर्गा महिला मंडल शेगली को जूस पिलाकर अनशन को तुड़वाया। विकास खंड अधिकारी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए उनकी मांगों को मान कर मनरेगा मजदूरों को रोजगार देने तथा सभी पंचायतों में मजदूरांे को शीघ्र औजार व प्राथमिक उपचार उपलब्ध करवाने की बात कही तथा सभी पंचायतों को आदेश जारी करके मनरेगा मजदूरों को काम मांगते समय रसीदें देना सुनिश्चित किया जाएगा। ग्रामीण कामगार संगठन के अध्यक्ष व जिला परिषद सदस्य संत राम ने कहा कि यह मजदूरों के संघर्ष की जीत है।

You might also like