सिद्धू के दफ्तर से फाइलें गायब

पंजाब की सियासत में खलबली, सीएम अमरेंदर सिंह से जुड़े दस्तावेज भी गुम

चंडीगढ़ – पंजाब कैबिनेट से इस्तीफा देने वाले पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू को स्थानीय निकाय विभाग से हटाए जाने के बाद से राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण दो फाइलें गायब हो गई हैं। इसको लेकर सत्ता के गलियारे में खलबली मच गई है। वहीं, स्थानीय निकाय विभाग के नए मंत्री ब्रहम मंत्री ने फाइलों को ट्रेस करने के लिए जांच के आदेश दे दिए हैं। सीएम ऑफिस ने भी चीफ सेक्त्रेटरी और विभागीय सेक्रेटरी से फाइलों का पता लगाने के लिए कहा है। पूरे मामले पर राजनीति गर्माने की संभावना है। वहीं सूत्रों की माने तो सबसे महत्त्वपूर्ण फाइल सिटी सेंटर घोटाले की है। इसको लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह पर लुधियाना की कोर्ट में केस चल रहा है। यह मामला कैप्टन अमरेंदर के पूर्व कार्यकाल के दौरान सामने आया था। 1144 करोड़ रुपए के इस प्रोजेक्ट को लेकर सत्ता बदलते ही बादल सरकार ने विजिलेंस की जांच करवाई और कैप्टन अमरेंदर सिंह समेत पांच अन्य पर केस दर्ज कर लिया था।

विजिलेंस ने दी क्लोजर रिपोर्ट

कैप्टन अमरेंदर सिंह के दोबारा सत्ता में आने के बाद इस केस में विजिलेंस ने क्लोजर रिपोर्ट दे दी है। कहा जा रहा है कि ये फाइलें नवजोत सिंह सिद्धू के पास हैं जो उन्होंने अभी तक लौटाई नहीं हैं। विभाग के मंत्री ब्रहम मोहिंदरा ने कहा कि उन्होंने विभाग से फाइलों की सूची मांगी हुई है उसके आने पर ही वह कोई टिप्पणी करेंगे। कैप्टन अमरेंदर सिंह से संबंधित फाइल का गुम होने के कारण यह चर्चा का विषय बन गया है। उधर, नवजोत सिंह सिद्धू ने पिछले डेढ़ महीने से मीडिया और अन्य लोगों से दूरी बनाई हुई है। उनसे कई बार संपर्क किया गया लेकिन संपर्क नहीं हो सका।

You might also like