सेना के हथियार-विमान बढ़ाएंगे युद्ध संग्रहालय की शान

‘दिव्य हिमाचल’ ने उठाया था म्यूजियम का मुद्दा; डीसी का एक्शन, जबलपुर-दिल्ली से उपकरण लेकर धर्मशाला पहुंचा वाहन

धर्मशाला   -राज्य युद्ध संग्रहालय धर्मशाला में सेना से जुड़ी अहम साम्रगी पहुंच गई है। कुछ दिन पहले ही उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बैठक कर युद्ध संग्रहालय में स्थापित होने वाले हथियारों और अन्य सामान को लाने के लिए वाहन रवाना कर दिया था। शुक्रवार को यह वाहन जबलपुर व दिल्ली से सेना, नौसेना व वायुसेना से जुड़ी अहम सामग्री लेकर पहुंच गया है।  इसमें हथियार, विमान का मॉडल, मैनक्विंस, काफी टेबल पुस्तकें व अन्य साफ्ट कोपियों को राज्य युद्ध संग्रहालय में जल्द स्थापित किया जाएगा।  कुछ कर गुजरने का जनून हो तो काम कोई भी मुश्किल नहीं होता है। कांगड़ा के उपायुक्त राकेश प्रजापति अपने काम करने के जुनून से यही साबित कर रहे हैं। पिछले करीब डेढ़ साल से उद्घाटन के बावजूद बंद पड़े युद्ध संग्रहालय का मामला कई बार उठाया गया, लेकिन सरकार व प्रशासन का रवैया सुस्त रहा।  कांगड़ा के नए उपायुक्त राकेश प्रजापति के समक्ष जब ‘दिव्य हिमाचल’ ने युद्ध संग्रहालय का मामला उठाया, तो उन्होंने तुरंत बैठक बुला ली। इतना ही नही,ं पिछले सप्ताह उन्होंने दोबारा बैठक कर सेना, वायु सेना और नौ सेना से जुड़ी सामग्री को लेने के लिए धर्मशाला से वाहन भी रवाना कर दिया, जिसका असर यह हुआ कि शुक्रवार को सारा सामान लेकर  वह वाहन जबलपुर व दिल्ली से धर्मशाला पहुंच गया है। हालांकि अभी कुछ अन्य सामान आना शेष है, लेकिन अब जल्द ही बंद पड़े राज्य युद्ध संग्रहालय के द्वार खुल सकते हैं। सैनिक कल्याण उपनिदेशक स्कवाड्रन लीडर मनोज राणा ने बताया कि शुक्रवार को सामान पहुंच गया है और जल्द ही इसे यथाउचित स्थान पर स्थापित किया जाएगा।

जिला कांगड़ा में महत्त्वाकांक्षी परियोजनाएं प्रशासन की प्राथमिकता

उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति का कहना है कि युद्ध संग्रहालय सहित कांगड़ा की सभी महत्त्वाकांक्षी परियोजनाएं प्रशासन की प्राथमिकता हैं और इन्हें आगे बढ़ाने के लिए वह लगातार प्रयास कर रहे हैं। युद्ध संग्रहालय के कार्य को पूरा करवाने के लिए वह नियमित फालोअप कर रहे हैं। इस दिशा में लगातार काम चल रहा है, जल्द ही साकारात्मक परिणाम सामने आएंगे।

You might also like