सोलन में गुरु पूर्णिमा पर साहित्य संगीत संगम

सोलन—संस्कृत महाविद्यालय के सभागार में मंगलवार को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी के सौजन्य से साहित्य संगीत संगम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अकादमी तथा जिला की अन्य संस्थाओं द्वारा प्रख्यात संस्कृतज्ञ केशव शर्मा तथा प्रख्यात संगीतज्ञ लोक गायक डाक्टर किशन लाल सहगल को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर आचार्य केशव शर्मा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि गुरु पूर्णिमा का पर्व हिंदू धर्म के लिए विशेष महत्त्व रखता है। भारतीय अध्यात्म में गुरु का विशेष महत्त्व है। गुरु के बिना ज्ञान संभव नहीं है, लेकिन गुरु त्यागी और निष्काम होना चाहिए। डाक्टर सहगल ने अपने संबोधन में कहा कि कोई कितने भी ग्रंथ पढ़ने उसे तब तक सच्चा ज्ञान नहीं मिलेगा जब तक उसे सच्चे गुरु का सान्निध्य न मिले। इससे पहले सचिव अकादमी डाक्टर धर्म सिंह ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा कार्यक्रम के बारे में जानकारी प्रदान कीं। कार्यक्रम के दौरान डा. कृष्ण लाल सहगल ने जहां खूबसूरत सिरमौरी नाटियां  प्रस्तुत कीं वहीं, उनके शिष्यों द्वारा बहुत ही मनभावन सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। इस मौके पर प्रधान आचार्य संस्कृत महाविद्यालय उत्तम चौहान,  जिला भाषा अधिकारी कुसुम संघाईक,  अनुसंधान अधिकारी गिरिजा शर्मा,  देवराज शर्मा,  आचार्य प्रेम राज गौतम,  कुमार  सिंह सिसोदिया, मदन हिमाचली सहित कई अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

You might also like