आर्टिकल 370ः जम्मू-कश्मीर के लिए रवाना हुए एनएसए अजीत डोभाल, खुद करेंगे सुरक्षा की निगरानी

अजीत डोभालआर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में हलचल तेज हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल भी कश्मीर के लिए रवाना हो गए हैं। बताया जा रहा है कि वह व्यक्तिगत तौर पर वहां पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेंगे। उनके पहुंचने से पहले 8 हजार सुरक्षा जवानों को और वहां भेजा गया है। जवानों की तत्काल तैनाती के लिए उन्हें हवाई रास्ते से जम्मू-कश्मीर ले जाया गया है। 

 

सूत्रों की मानें तो डोभाल सुरक्षा को लेकर बैठक करेंगे और कहा जा रहा है कि वह फर्स्ट हैंड सिक्यॉरिटी चाहते हैं इसलिए वह खुद वहां पहुंचे हैं। किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए उन्होंने सेना को तैयार कर रखा है। बताया जा रहा है कि स्थितियों को देखते हुए वह यहां रुक भी सकते हैं और स्थितियां सामान्य होने तक वह यहां सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखेंगे। 

जुलाई में भी गुपचुप पहुंचे थे कश्मीर 
अजीत डोभाल जुलाई के अंतिम सप्ताह में भी कश्मीर पहुंचे थे। सूत्र बताते हैं कि एनएसए डोभाल चुपके से बीस जुलाई को घाटी के दौरे पर श्रीनगर पहुंचे थे। वहां उन्होंने सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों के टॉप अफसरों के साथ अलग-अलग बैठकें की थीं। इनमें राज्यपाल के सलाहकार के. विजय कुमार, मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यन, डीजीपी दिलबाग सिंह, आईजी एसपी पाणि जैसे लोग शामिल थे। कश्मीर दौरे पर दिल्ली से आईबी के आला अधिकारियों की टीम भी एनएसए के साथ थी। 

वापस लौटते ही भेजे गए थे 10,000 अतिरिक्त जवान 
अजीत डोभाल के कश्मीर दौरे से लौटते ही वहां 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षा बल भेजने का फैसला हुआ था। तब केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया था कि अतिरिक्त केंद्रीय बलों की तैनाती से कश्मीर में आतंकी नेटवर्क को ध्वस्त करने का अभियान मजबूत होगा। साथ ही, राज्य में कानून-व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाए रखने में मदद मिलेगी। 

देशभर से एयरलिफ्ट किए जा रहे जवान 

सूत्रों के मुताबिक, देश के विभिन्न हिस्सों में तैनात केंद्रीय सुरक्षा बलों को एयरलिफ्ट कर सीधे कश्मीर पहुंचाया जा रहा है। गृह मंत्रालय ने 25 जुलाई को केंद्रीय सशस्त्र बलों की अतिरिक्त 100 कंपनियों की तैनाती का आदेश जारी किया था। इन केंद्रीय बलों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) शामिल हैं। बताया जा रहा है कि अब तक कश्मीर में 46 हजार अतिरिक्त जवान पहुंच चुके हैं। 

You might also like