खुदरा महंगाई में गिरावट

जुलाई में 3.15 फीसदी पर; आरबीआई के अनुमान से कम, खाद्य पदार्थों के बढ़े दाम

नई दिल्ली – देश में खुदरा महंगाई में मामूली गिरावट आई है। यह अब 3.15 प्रतिशत के स्तर पर जा पहुंची है। महंगे खाद्य उत्पादों के बावजूद जुलाई महीने में रिटेल महंगाई में गिरावट देखने को मिली है। मंगलवार शाम को जारी आंकड़ों के मुताबिक, खाद्य सामग्री की महंगाई 2.36 फीसदी रही, जबकि इससे पहले जून महीने में यह 2.25 पर्सेंट थी। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के मुताबिक, 2018 में जून में खुदरा महंगाई की दर 3.18 फीसदी थी और जुलाई में यह 4.17 फीसदी थी। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, खाद्य सामग्री की महंगाई जुलाई में 2.36 फीसदी थी। इससे पहले वाले महीने में यह आंकड़ा 2.25 फीसदी थी। खुदरा महंगाई का यह स्तर रिजर्व बैंक की ओर से तय लक्ष्य से भी नीचे है। रिजर्व बैंक ने खुदरा महंगाई के लिए चार फीसदी का लक्ष्य तय किया है। गौरतलब है कि रिजर्व बैंक हर दो महीने पर अपनी मौद्रिक नीति में रिटेल महंगाई की दर को लेकर अपना लक्ष्य तय करता है। खुदरा महंगाई में इस कमी ने एक बार फिर यह साबित किया है कि रीपो रेट में कटौती का आरबीआई का फैसला कितना जरूरी था। महंगाई में गिरावट का स्पष्ट संकेत है कि मांग में गिरावट आई है। ऐसे में आरबीआई अब अक्तूबर में जारी होने वाली अपनी मौद्रिक नीति में एक बार फिर से रीपो रेट में कटौती कर सकता है। आरबीआई देश में लगातार मांग में इजाफे के उद्देश्य से रीपो रेट में कटौती कर रहा है। हाल ही में आरबीआई ने रीपो रेट को 5.4 फीसदी तक किया था, जो नौ साल के निम्नतम स्तर पर है। राज्यों के लिहाज से असम, कर्नाटक और केरल में सर्वाधिक महंगाई रही। इन राज्यों में महंगाई की दर पांच फीसद से अधिक रही। दिल्ली और उत्तराखंड में महंगाई की दर चार फीसद से अधिक रही।

You might also like