जलमग्न हुए मंडी में पेयजल संकट

ऊहल योजना की पाइप लाइन के मलबे की चपेट में आने से नहीं हो पाई आपूर्ति

मंडी -मंडी शहर के लिए लगभग 83 करोड़ की लागत से बनाई गई प्रदेश कीपहली ग्रेविटी आधारित ऊहल पेयजल योजना की पाइप लाइन को पहली ही बरसात ने क्षतिग्रस्त कर दिया है। भारी बारिश के कारण ऊहल पेयजल योजना की पाइल लाइन शहर से कई किलोमीटर पीछे दो जगहों पर क्षतिग्रस्त हो गई है, जिससे शहर में पेयजल संकट पैदा हो गया है। सोमवार को मंडी शहर के कई हिस्सों में पेयजल आपूर्ति प्रभावित रही। हालांकि गनीमत यह रही कि आईपीएच विभाग ने क्षतिग्रस्त लाइन की सोमवार को मरम्मत कर उसे अस्थायी रूप से ठीक कर दिया, जिसके बाद विभाग मंगलवार को फिर से शहर में पेयजल आपूर्ति करने का दावा कर रहा है, लेकिन इसके बाद भी अगले एक दो दिन तक शहर में पेयजल संकट रहने के आसार हैं। अगले दो-तीन दिन में भारी बारिश की संभावना भी बनी हुई है। ऐसे में योजना की पाइप लाइन फिर से भू-स्खलन की चपेट में आती है तो शहर में पेयजल संकट फिर से गरमा जाएगा। उधर, अधिशाषी अभियंता आईपीएच मंडी मंडल अरुण शर्मा ने बताया कि भारी भू-स्खलन की वजह से दो जगहों पर पाइप क्षतिग्रस्त हुई, लेकिन इसे कड़ी मेहनत कर सोमवार को ही अस्थायी रूप से बहाल कर दिया गया है। मंगलवार से पेयजल आपूर्ति फिर से शुरू हो जाएगी। पाइप लाइन की मरम्मत का कार्य भी जारी है।

You might also like