जिला में दूसरे दिन बंद रही 78 सड़कें

नाहन -मानसून की आफत बरसात की मार से दूसरे दिन जनजीवन पटरी पर नहीं आ सका है। उफनते नदी-नालों के बीच अभी जिला की गिरि नदी का रौद्र रूप बना हुआ है। सोमवार को हालांकि मौसम साफ होने से गिरि और जलाल, मारकंडा, बाता इत्यादि नदियों में जल स्तर कुछ फुट तक कम हो गया है, मगर अभी जटोन बांध के 10 में से नौ फ्लड गेटों को खुला रखा गया है। जिला सिरमौर में बारिश के दूसरे दिन भी जिला की लिंक और मुख्य सड़कों सहित 78 सड़कें बाधित रही हैं। लोक निर्माण विभाग ने 46 जेसीबी मशीनों से विभिन्न लेंड स्लाइड एरिया में युद्ध स्तर पर कार्य छेड़ा हुआ है। जिला सिरमौर में अब लोक निर्माण विभाग को 19 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा है। यही नहीं कृषि बागबानी के तहत किसानों की कई हेक्टेयर भूमि जल कटाव की भेंट चढ़ गई है। जिला आपदा प्रबंधन से प्राप्त जानकारी अनुसार हॉर्टिकल्चर विभाग को मात्र दो दिन में ही 52 लाख से अधिक का नुकसान हो गया है, जबकि 1215 हेक्टेयर बागबानी भूमि बाढ़ की चपेट मंे आ गई है। उधर कृषि विभाग के तहत दो दिनों से जारी बारिश से 1914 लाख का नुकसान के साथ दो दिनों में ही 21 हेक्टेयर कृषि भूमि बह गई है। जिला सिरमौर में आईपीएच की 319 स्कीमंे दो दिनों की भारी बारिश से ध्वस्त हो गई है, जिसमें दो दिनों के भीतर ही आईपीएच विभाग को 3.61 करोड़ का नुकसान हो गया है।  भारी बारिश से जिला सिरमौर मंे 225 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई है।  जिला सिरमौर में दर्जनों कच्चे मकान और गोशालाएं बारिश और मलबे की भेेंट चढ़ गए हैं। दूसरे दिन गिरिपार क्षेत्र प्रमुख मार्गों से कटा रहा। उधर, उपायुक्त सिरमौर डा. आरके परूथी के आदेशानुसार जिला के शिक्षण संस्थानों को सुरक्षा की दृष्टि से सोमवार को अवकाश घोषित किया गया, जिसके चलते छात्रों और अध्यापकों ने राहत की सांस ली है।

You might also like