झाड़-फूंक का असर नहीं  तो तांत्रिक की बेटी अगवा

एक महिला ने तांत्रिक की झाड़-फूंक की मदद से काफी दिनों तक बेटे और बहू की तलाश करने की कोशिश की, लेकिन जब सफलता नहीं मिली, तो तांत्रिक की ही बेटी को अगवा कर लिया। यह दिलचस्प मामला गाजियाबाद के इंदिरापुरम का है, जहां तांत्रिक की झाड़-फूंक से फायदा न होने से गुस्साई एक महिला ने उसकी दो साल की बेटी को अगवा कर लिया। अपने बेटे-बहू के लापता होने के बाद महिला ने नीति खंड में रहने वाले तांत्रिक की मदद ली थी। काफी रुपए देने के बाद भी उनका पता नहीं चला, तो महिला बदले की नीयत से तांत्रिक की बेटी को अगवाकर अपने घर छत्तीसगढ़ ले गई। इंदिरापुरम ने पुलिस ने फोन की लोकेशन के आधार पर मंगलवार को महिला को पकड़ लिया। बच्ची भी सुरक्षित मिल गई है। एसपी सिटी श्लोक कुमार ने बताया कि दिल्ली के पांडव नगर में रहने वाली महिला दुखिया को गिरफ्तार किया गया है। वह मूलरूप से छत्तीसगढ़ की रहने वाली है और दिल्ली में रहकर घरों में साफ-सफाई का काम करती है। दुखिया के मुताबिक, उसका बेटा और बहू कुछ समय से लापता हैं। उनकी तलाश में वह फोन नंबर के जरिए तांत्रिक सतेंद्र के पास पहुंची थी। सतेंद्र ने बेटे-बहू को वापस लाने का दावा कर उससे हजारों रुपए ठग लिए। इसके बाद भी उनका पता नहीं चला। एसपी सिटी ने बताया कि इसी बदले की भावना में दुखिया ने 22 अगस्त को घर के बाहर खेल रही सतेंद्र की दो साल की बेटी का अपहरण कर लिया। वह बच्ची को छत्तीसगढ़ ले गई। इस मामले में सतेंद्र ने इंदिरापुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। उन्होंने महिला का नंबर भी पुलिस को दिया था। इंदिरापुरम थाना प्रभारी दीपक शर्मा ने बताया कि महिला के मोबाइल को सर्विलांस पर डाला गया था। इसी के जरिए 27 अगस्त को उसे छत्तीसगढ़ से पकड़ लिया गया। बच्ची भी मिल गई है। पूछताछ में महिला ने बताया कि वह बच्ची को अपने साथ रखना चाहती थी। 

You might also like