डायरिया ने 23 और को लेटाया

चच्योट में हालात बेकाबू, गांव पहुंची आईपीएच-स्वास्थ्य विभाग की टीम

गोहर -चच्योट पंचायत के अंतर्गत फैला डायरिया अभी तक थमने का नाम नहीं ले रहा है। भले ही स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस पर नियंत्रण  पाने के लिए प्रभावित गांवों में डेरा डाला है, लेकिन सोमवार को भगवानपुर, ढगवाहन, छवाड़, श्ठकन, नावंग्राव व चौगान गांव में डायरिया के 23 नए मरीजों की पहचान हुई है। लिहाजा चच्योट पंचायत में डायरिया के मरीजों की संख्या अब 53 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सोमवार को डोर टू डोर अभियान के अंतर्गत डायरिया से प्रभावित सभी मरीजों ंको जहां ओआरएस वितरित किया, वहीं दूसरी ओर निःशुल्क रूप से आवश्यक दवाइयां भी बांटीं। टीम के प्रभारी एवं सिविल अस्पताल गोहर के इंचार्ज डा. कुलदीप शर्मा ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि रविवार सायं तक डायरिया से ग्रस्त 30 मरीजों की पहचान हुई थी, जो सोमवार को बढ़कर 53 हो गई है। उन्होंने बताया कि इन मरीजों में से एक महिला को मेडिकल कालेज नेरचौक रैफर कर दिया गया है, जबकि शेष सभी 52 मरीजों के स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है। उन्होंने बताया कि विभाग ने प्रभावित क्षेत्र में कड़ी नजर रखी हुई है। डा. कुलदीप ने उम्मीद जाहिर की है कि अगले दो दिन में स्थिति में सुधार हो जाएगा। उधर, सोमवार को आईपीएच विभाग की टीम ने भी सोमवार को प्रभावित क्षेत्र का दौरा करके संबंधित स्रोतों के पेयजल सैंपल एकत्र किए हैं। उधर, आईपीएच विभाग के गोहर स्थित एसडीओ राकेश शर्मा का कहना है कि उन्होंने सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ संयुक्त दौरा करके वहां की पेयजल योजना के सभी स्रोतों के संैपल लेकर प्रयोगशाला में भेज दिए हंै। उन्होंने कहा कि विभाग अपनी सभी पेयजल योजनाओं में समय-समय पर क्लोरिनेशन कर रहा है।

 

You might also like