ढेरों उम्मीदों के साथ आज इतिहास रचेगा आईजीएमसी

शिमला – ढेरों उम्मीदों के साथ आईजीएमसी के लिए सामेवार बड़ा दिन और इतिहास भरा रहेगा। सोमवार को आईजीएमसी में किडनी ट्रांसप्लांट होने वाला है। हालांकि किडनी प्रभावितों को पूरी उम्मीद है कि ये सुविधा आईजीएमसी में शुरू होने जा रही है। किडनी ट्रांसप्लांट के लिए एम्स से चार डाक्टर आईजीएमसी पहुंच चुके हैं। एम्स के स्पेशलिस्ट डाक्टर डा. आदित्य गुरुवार शाम को ही शिमला आ गए थे, वहीं तीन अन्य विशेषज्ञ शुक्रवार को अस्पताल पहुंचे। चारों विशेषज्ञ अस्पताल पहुंचकर किडनी ट्रांसप्लांट करेंगे। रविवार को भी आईजीएमसी में किडनी ट्रांसप्लाट के लिए भर्ती किए गए दो मरीजों का मेडिकल स्टेटस का भी जायजा लिया गया। एक मंडी और दूसरा मरीज शिमला से है, जिनकी सर्जरी हो रही है। जो रिश्तेदार मरीजों को किडनी दे रहे हैं, उनकी मेडिकल रिपोर्ट भी खंगाली जा रही है। आईजीएमसी पहुंचे विशेषज्ञों ने ऑपरेशन थिएटर और ऑपरेशन के सामान को भी चैक किया है, जिसके बाद अस्पताल में बैठक का आयोजन भी किया गया है। अभी मरीजों के नाम और पते सार्वजनिक नहीं किए गए हैं।  प्रशासन का मानना है कि पूरी कोशिश की जाएगी कि तोहफा प्रदेश के सबसे बड़े मेडिकल कालेज को जल्द मिल सके। रविवार को बैठक में किडनी ट्रांसप्लांट की पूरी स्थिती पर विचार-विमर्श किया गया, जिसमें यूरो के डॉक्टर्स से भी बातचीत की है। फिलहाल अब यह देखना है कि अब ये ट्रांसप्लांट कितना सफल हो पता है। गौरतलब है कि आईजीएमसी पर किडनी ट्रांसप्लांट करने के लिए सरकार का भारी दबाव है। विधानसभा मानसून सत्र से पहले अस्पताल में किडनी ट्र्रांसप्लांट का ऑपरेशन किया जाना तय किया गया है। अस्पताल में पहले ट्रांसप्लांट की तस्वीर देखें तो आईजीएमसी में किडनी ट्रांसप्लांट के लिए भर्ती किया गया मरीज मौत के मुंह में पिछले माह चला गया था। भले ही कारण यह रहा कि उसके लिए न तो डोनर का इंतजाम हो पाया और न ही एम्स से डाक्टर पहुंच पाए, लेकिन आईजीएमसी में एक ऐसी उम्मीद हार गई, जो जीवन की आस लगाई बैठी थी।

जागरूकता जरूरी

विशेषज्ञ डाक्टरों की मानें तो जो किडनी दान देता है, उसका स्वास्थ्य भी ठीक रहता है, लेकिन इसके लिए प्रदेश में एक अहम काउंसिलिंग अभियान चलाना भी जरूरी है। हर वर्ष प्रदेश में सौ से अधिक किडनी प्रभावित लोगों को ट्रांसप्लांट की आवश्यकता पड़ रही है, लेकिन आईजीएमसी में इस योजना का लाभ मरीजों को नसीब ही नहीं हो पाया है।

You might also like