तस्करों के मोबाइल में मिले अहम सबूत

नशा तस्कर 100 ग्राम चिट्टा बेचने के बाद लौटता था दिल्ली, मामले में जल्द हो सकती हैं कुछ और गिरफ्तारियां

सोलन -सोलन पुलिस के हत्थे चढ़े दोनों विदेशी नशा तस्कर पहली बार हिमाचल नहीं आए थे। दरअसल, नशे की सप्लाई के लिए इनका यहां आना-जाना लगा रहता था। सोलन ही नहीं, प्रदेश के अन्य जिलों में भी यह चिट्टा जैसा जानलेवा जहर बेचते आ रहे हंै। कुछ इस तरह के इनपुट पुलिस को मिले हैं।  सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस के हाथ कई अन्य तथ्य भी लगे हैं। बताया जा रहा है कि पुलिस को तस्करों के मोबाइल फोन से कई महत्त्वपूर्ण जानकारी भी मिली है, जिसके आधार पर पुलिस आगामी दिनों में नशे के अन्य सौदागरों पर भी शिकंजा कस सकती है। सबसे अधिक चौंकाने वाली बात यह है हर दफा तस्कर कम से कम 100 ग्राम चिट्टा की सप्लाई प्रदेश में करते थे। इतनी खपत होने के बाद ही यह दिल्ली लौटते  थे। सूत्रों के हवाले से ही एक अन्य बात भी सामने आई है कि यह सारा धंधा व्हाट्सऐप के माध्यम से चलता था। रेट से लेकर क्वांटिटी तक व्हाट्सेप पर तय की जाती थी। पुलिस अब इस बात का पता लगा रही है कि, कितने लोग इनसे जुड़े हुए थे और कितनी बार कितनी मात्रा में इनसे चिट्टा ले चुके हैं,  जिस तरह से तस्करों के बारे में जानकारियां निकलकर आ रही हैं, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन विदेशी तस्करों ने किस कद्र प्रदेश में नशे की जड़े गहरी की है। दूसरी ओर इन सभी बिंदूओं को मद्देनजर रखते हुए सोलन पुलिस की यह बहुत बड़ी कामयाबी मानी जा रही है। कहा जा रहा है कि यह दोनों बहुत बड़ी मछलियां थीं, जिन्होंने पूरे प्रदेश का माहौल खराब कर रखा था। दूसरी तरफ पुलिस ने दोनों को कोर्ट में पेश किया, जहां से इन्हें चार दिन का पुलिस रिमांड मिला है। रिमांड के दौरान भी पुलिस इनसे हर पहलू पर पूछताछ कर सकती है।  गौर रहे कि सोलन पुलिस ने शनिवार देर सांय सोलन के समीप बू्ररी से दो विदेशी तस्करों को दबोचा था। पुलिस ने इनके कब्जे में 9.90 ग्राम चिट्टा और 98 हजार 850 रुपए नकदी बरामद की थी। इनकी पहचान नाइजीरिया के रहने वाले स्टैनले और ओनिला मैचिले के रूप में की गई है। पुलिस ने जिस वक्त इन्हें गिर तार किया यह सड़क किनारे एक अस्थायी शैड में तिरपाल के नीचे खड़े थे। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि या तो ये दोनों सप्लाई किसी को सप्लाई देकर आए होंगे या किसी का इंतजार कर रहे हैं। कुल मिलाकर जब तक ये अपने मंसूबे में कामयाब होते पुलिस ने इन्हें गिर तार कर लिया।  बहरहाल, जो भी हो, पुलिस को इस कामयाबी के लिए शाबाशी मिल रही है।  अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं मीडिया प्रभारी डा. शिव कुमार शर्मा ने कहा कि दोनों को चार दिन का पुलिस रिमांड मिला है। पुलिस हर पहलू पर गहनता से जांच कर रही है।

You might also like