दलदल ने रोके मणिमहेश यात्री

आठ दिन से चुवाड़ी-सिहुंता मार्ग पर थमी रफ्तार

चुवाड़ी -पिछले आठ दिनों से चुवाडी-सिंहुता मार्ग पर बने  दलदल ने मणिमहेश यात्री रोक दिए, वही बड़े वाहनों की आवाजाही अभी तक संभव नहीं हो पाई है। गुरुवार की शाम को  छोटे वाहनों की आवाजाही के लिए खोलने के बाद शुक्रवार की रात्रि को फिर से बह हुए मार्ग को रविवार को  दिन में बारह बजे करीब फिर से छोटे वाहनों की आवाजाही को सुचारू किया गया। बता दें कि   जिला कांगड़ा से चंबा आने वाले मणिमहेश यात्रियों का पसंदीदा मार्ग एकमात्र चुवाड़ी-सिंहुता मार्ग है। इस बार बरसात का  खूब कहर बरपा  है, जिसके चलते यातायात को फिर से पटरी पर लाने के लिए  पीडब्लूडी  विभाग पूरी तरह से डटा हुआ है। चुवाड़ी-सिंहुता मार्ग पर फीन्ना डैम के समीप जमींदोज हुए मार्गॅ बहाली के लिए मार्ग को अंदर   से काट कर बनाने के बावजूद पानी रिसने से मार्ग पर दलदल के बराबर बना हुआ है, जो कि मार्ग से गुजरने वाले वाहनों के लिए एक बड़ी मुसीबत का सबब बन गया है। विभाग द्वारा गुरुवार की शाम को मार्ग से छोटे वाहनों की आवाजाही के लिए मार्ग को खोल दिया गया, लेकिन शुक्रवार की रात्रि में मार्ग फिर से अवरुद्ध हुआ, जो कि रविवार को दोबारा छोटे वाहनों की आवाजाही सुचारू की गई है। विभाग का तर्क है कि मार्ग से वाहनों की बहाली बने रहने की गारंटी नहीं दी जा सकती है।  अवरुद्ध मार्ग की वजह से  वाहन चालकों को लंबा रास्ता तय कर  वाया चुवाडी-ददरियाडा  और वाया नुरपुर होकर गुजरना पड़ रहा है। रविवार को मणिमहेश यात्रियों के लिए विकल्प मार्ग बने चुवाड़ी-ददरियाडा मार्ग अवरुद्ध होने से मार्ग से बडे़ वाहनों की बहाली दिन में एक  बजे के करीब संभव हो पाई। उधर एसडीओ कल्याण भट्ट का कहना है कि चुवाड़ी-सिंहुता मार्ग पर दलदल बनने के कारण मार्ग की बहाली बनाए रखने के लिए विभाग के प्रयास जारी हैं। उनका कहना है कि छोटे वाहनों के लिए मार्ग को खोला गया है, वही बड़े वाहनों के लिए मार्ग दुरुस्त किया जा रहा है।

You might also like