नादौन में सचिव-महिला ने खाया जहर

नादौन – पुलिस थाना नादौन के तहत भूंपल गांव में सहकारी सभा के सचिव ने गलती से जहरीली दवाई का सेवन कर लिया। टांडा मेडिकल कालेज ले जाते समय व्यक्ति ने बीच रास्ते में ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। जानकारी के अनुसार मृतक 57 वर्षीय सुरेश कुमार पुत्र रुंका राम के परिजनों ने बताया कि गुरुवार सुबह घर पर वह अपनी पत्नी के साथ बाहर बैठे हुए थे। उसी दौरान कोई दवाई खाने के लिए अंदर गए। जब बाहर आए, तो उन्होंने अपनी पत्नी को दवाई दिखाते बताया कि उन्होंने यह दवाई खाई है। पत्नी ने बताया कि उन्होंने गलत दवाई खा ली है। इसके तुरंत बाद परिजन उन्हें नादौन अस्पताल ले आए। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद सुरेश कुमार को गंभीर हालत में टांडा रैफर कर दिया गया, परंतु रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। इससे पूर्व नादौन अस्पताल में सुरेश कुमार ने पुलिस को बयान दिया कि उन्होंने गलती से कोई जहरीली दवाई खाई है। थाना प्रभारी महेंद्र परमार ने बताया कि मामला दर्ज करके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि मामले की छानबीन की जा रही है।

नादौन – पुलिस थाना नादौन के तहत बदारन पंचायत के जसोह गांव की विवाहिता ने जहरीला पदार्थ निगलकर अपनी इहलीला समाप्त कर ली। महिला की मौत के बाद मायका पक्ष ने ससुरालियों पर गंभीर आरोप जड़े हैं। मायका पक्ष ने ससुराल पक्ष पर बेटी से मारपीट कर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार मृतका 26 वर्षीय शीतल पत्नी मनजेंद्र सिंह के ससुर मदन लाल ने बताया कि वह गुरुवार सुबह जब घर के पास काम कर रहा था, तो छोटी बहू ने बताया कि शीतल की तबीयत खराब हो गई है। इसके बाद शीतल का पति मनजेंद्र सिंह उसे तुरंत नादौन अस्पताल ले आया, जहां उसकी मौत हो गई। मनजेंद्र सिंह बद्दी में काम करता है और बुधवार रात को ही घर पहुंचा था। वह अपने माता-पिता से अलग अपने मकान में रहता है। सुबह पूरा परिवार शीतल के मायके जाने के लिए तैयार हो रहा था। इसी दौरान यह घटना हो गई। वहीं नादौन अस्पताल में भारी संख्या में पहुंचे शीतल के मायके वालों ने इसे सुनियोजित हत्या करार दिया। उसकी माता रीता देवी निवासी छपरोह कलां बंगाणा ने आरोप लगाया कि शीतल का पति जब भी घर आता था तो उसके साथ अकसर मारपीट करता था। शीतल की दो बेटियां, एक चार वर्ष तथा एक सवा दो वर्ष की हैं, जिन्हें लेकर भी वह शीतल को प्रताडि़त करता था। शीतल के मायके वाले देर सायं तक इस बात पर अड़े रहे कि शव का पोस्टमार्टम टांडा में करवाया जाए, ताकि फोरेंसिंक जांच हो सके। जांच अधिकारी एसआई राजेश कुमार ने बताया कि मामला दर्ज करके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है। थाना प्रभारी महेंद्र परमार ने बताया कि महिला के पति को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की जा रही है।

You might also like