नाहन जेल से भागा कैदी छह दिन में धरा

15 अगस्त को अस्पताल जाने के बहाने भागा था आरोपी, पुलिस ने पंजाब के नकोदर से धर दबोचा

नाहन -देश की आजादी के दिन देश की जानी मानी सेंट्रल जेल नाहन से अपनी आजादी तय करने वाले सेंट्रल जेल नाहन के कैदी मुकेश को आखिर मात्र छह दिन में पुलिस ने पंजाब के नकोदर से दबोचने में सफलता प्राप्त की है। सूत्रों के मुताबिक फरार कैदी मुकेश को पुलिस ने पंजाब के नकोदर के नजदीक से गिरफ्तार किया है। पुख्ता जानकारी के मुताबिक शातिर कैदी खुद मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर रहा था। लिहाजा पुलिस को उसकी सही लोकेशन पता करने में कुछ वक्त लग रहा था। पुलिस टीम ने कैदी के मोबाइल जो कि पुलिस को जेल में ही बरामद हुआ से डाटा को खंगाल कर फरारी के तार जोड़े। इसके बाद पुलिस ने कुछ फोन नंबर ऑब्जर्वेशन पर रखे। सूत्रों के मुताबिक सिरमौर पुलिस का आईटी सेल पूरी तरह से सक्रिय था। बताया जा रहा है कि कैदी की लोकेशन को ट्रेस करने के बाद टीम को सूचना दी गई। उल्लेखनीय है कि इस मामले में कैदी के अलावा जेल कर्मी के खिलाफ भी मामला दर्ज हुआ है। सवाल इस बात पर उठा था कि जेल कर्मी अपने ही स्तर पर कैदी को कैसे अस्पताल ले गया था। इसके साथ ही यह भी सवाल उठा था कि कर्मी द्वारा कैदी को निजी अस्पताल क्यों ले जाया गया, जबकि सरकारी अस्पताल जेल से नजदीक भी था। उधर, मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस अधीक्षक सिरमौर अजय कृष्ण शर्मा ने बताया कि नाहन जेल से फरार कैदी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि फरार होने के बाद कैदी अपनी ही किसी करीबी के पास छुपा हुआ था। गौर हो कि पुलिस को शुरुआती दौर से ही उसके पंजाब में छिपा होने की आशंका थी जो जालंधर का रहने वाला है। कैदी जेल में रेप के केस में 10 साल की सजा काट रहा है। उधर केंद्रीय आदर्श कारागार नाहन के जेल अधीक्षक जय गोपाल लोदटा ने बताया कि संबंधित बंदी की अभी दो साल दो महीने व 26 दिन की सजा शेष बची है। उन्होंने कहा कि आरोपी आईपीसी की धारा 376 व अन्य मामले में सजा काट रहा है।

You might also like