पुलिस भर्ती का मास्टरमाइंड फरार

गिरफ्त में आए 13 आरोपी पांच दिन के रिमांड पर, छह संदिग्धों से भी की जा रही पूछताछ

धर्मशाला – हिमाचल प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती की लिखित परीक्षा में शातिरों को फर्जी तरीके से परीक्षा केंद्र भेजने वाला मास्टरमाइंड फरार हो गया है। हालांकि मामले से जुड़े चार और लोगों को सोमवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने रविवार देर शाम जवाली में मामले के सरगना विक्रम के घर पर दबिश दी तथा 11 लाख से अधिक की नकदी बरामद की है। इसके साथ-साथ पुलिस के हाथ इलेक्ट्रॉनिक गजट से भरा हुआ एक वाहन भी हाथ लगा है, जिसमें बड़ी मात्रा में नकल करवाए जाने का सामान उपलब्ध है। वहीं, पुलिस ने सोमवार को मामले के सभी 13 आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें 16 अगस्त तक पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। इसके साथ ही मामले से जुड़े हुए छह संदिग्ध लोगों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। अब तक मामले से जुड़े हुए 20 से अधिक  लोगों को पुलिस ने अपनी जांच के दायरे में लाकर पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस कांस्टेबल भर्ती मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 13 युवकों को पुलिस सोमवार को पहले परौर स्थित सत्संग भवन में बनाए गए परीक्षा केंद्र में लेकर गई। वहां पर पुलिस ने तथ्य खंगाले, जिससे अब मामले में कुछ और खुलासे हो सकते हैं। गौरतलब है कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में छह यूपी व एक हरियाणा का हैं। ये लोग दूसरों की जगह परीक्षा देने बैठे थे। इसके अलावा पांच अन्य को परीक्षा केंद्र के बाहर से गिरफ्तार किया गया, जो कि इनके साथ थे और लिखित भर्ती के असली उम्मीदवार हैं। पुलिस भर्ती मामले की जांच जिला के भवारना थाने में चल रही है। वहीं, सरकार ने लिखित परीक्षा रद्द कर दी है। पुलिस विभाग लिखित परीक्षा को नई तिथि की घोषणा जल्द करेगा।

ऐसे हुआ था साजिश का खुलासा

लिखित परीक्षा में महाघपले के पीछे विक्रम पुत्र बंसी लाल निवासी दरकाटी जवाली कांगड़ा का हाथ है। विक्रम के नाम का खुलासा परीक्षा केंद्र में हाईटेक उपकरणों के साथ पकड़े गए जवाली के ही युवक ने पुलिस पूछताछ के दौरान किया। पुलिस उसके दोस्तों से भी पूछताछ कर रही है और कई जगहों पर दबिश दे रही है। इस गिरोह में अन्य कौन-कौन शामिल हैं और प्रदेश के अन्य स्थानों में भी बदलकर उम्मीदवार भेजे गए हैं, इसका भी पता लगाया जा रहा है।

क्या कहते हैं डीआईजी

डीआईजी संतोष पटियाल ने बताया कि पुलिस भर्ती मामले में पकड़े गए सभी 13 आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें पांच दिन का पुलिस रिमांड मिला है। उनसे पूछताछ की जाएगी कि इस गिरोह के तार कहां तक जुड़े हैं। साथ ही छह लोगों से पूछताछ की जा रही है। मामले के सरगना को पकड़ने के लिए पुलिस टीमें जगह-जगह दबिश दे रही हैं।

इलेक्ट्रॉनिक गजट से भरी गाड़ी मिली

आरोपी युवकों ने हाईटेक तरीके से फर्जीबाड़े को अंजाम देने की कोशिश की है। पुलिस ने इलेक्ट्रोनिक गजट से भरे वाहन को भी बरामद किया है। इसके साथ तीन इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगी बनियान भी पुलिस के हाथ लगी हैं। इन हाईटेकबनियानों के जरिए आरोपी परीक्षा में नकलकर पास होने की फिराक में थे। +िआरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस ने एक बाहरी राज्य के नंबर वाला वाहन भी बरामद किया है। इसी वाहन में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगी यह तीन बनियान बरामद की हैं। इसी के चलते मामले का खुलासा होने के बाद सरकार व प्रशासन सचेत हो गया है।

You might also like