बेतरतीब पार्किंग-ट्रांसफार्मर ने हैरिटेज सिटी के शाही महल के सौंदर्य में लगाया दाग

नाहन -रियासतकालीन दौर में जिन इमारतों से सिरमौर रियासत का राज्य संचालित होता रहा उन्हीं ऐतिहासिक स्मारकों, महलों को आज अनदेखी के चलते बेतरतीब तरीके से अव्यस्थित किया जा रहा है। नाहन हैरिटेज सिटी इन्ही इमारतों, स्मारकों, महलों के बल पर हैरिटेज घोषित है, मगर स्मारकों के सामने बेतरतीब पार्किंग, शाही महल के द्वार पर जड़ा गया विद्युत बोर्ड का ट्रांसफार्मर, दिल्ली गेट पर दोपहिया वाहनों की पार्किंग, तालाबों की अनदेखी आदि से हैरिटेज शहर नाहन में स्मारकों और भवनों पर दाग लगा रहे हैं। सिरमौर रियासत की धरोहर शाही महल के द्वार पर जहां हरदम बेतरतीब पार्किंग का जमावड़ा लगा रहता है, वहीं रॉयल पैलेस के कैंपस में विद्युत बोर्ड द्वारा ट्रांसफार्मर लगाए जाने से इस हैरिटेज स्मारक का कैंपस बाधित हो गया है। सिरमौर रियासत के अंतिम महाराजा राजेंद्र प्रकाश के वर्ष 1964 में देहांत के बाद शाही महल अनदेखी का शिकार होता रहा। वहीं अब महाराजा सिरमौर के दत्तक पुत्र महाराज उदय प्रकाश ने महल के जीर्णोंद्वार का बीड़ा उठाते हुए इसके नवीनीकरण का कार्य आरंभ कर दिया है, ताकि सिरमौर रियासत की यह धरोहर सिरमौर और देश-प्रदेश के लोगों के लिए जीवंत उदाहरण के साथ यहां के पर्यटन को बढ़ावा दे सकें। राज परिवार की महाराज कुमारी दिव्याश्री बताती हैं कि शाही महल को जीर्णोंद्धार कर हैरिटेज स्टे और अतुलनीय भारत अभियान के तहत लाया जा रहा है, जिससे सिरमौर की संस्कृति पर्यटन को अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलेगी, मगर इस महल के सामने बेतरतीब पार्किंग, कैंपस में जड़ा विद्युत ट्रांसफार्मर समस्या बने हुए हैं। उन्होंने बताया कि विधानसभा अध्यक्ष एवं विधायक डा. राजीव बिंदल को महल के प्रांगण में जड़ दिए गए विद्युत ट्रांसफार्मर को शिफ्ट करने के लिए पत्र प्रेषित कर दिया है। वहीं नगर परिषद नाहन से भी आग्रह किया गया है कि महल के मुख्य द्वार के सामने बेतरतीब पार्किंग से निजात दिलाई जाए, ताकि धरोहर स्मारक शाही महल का स्वरूप पर्यटकों, आंगतुकों के लिए आकर्षक एवं सुविधायुक्त बना रहे। गौर हो कि नाहन के शाही महल के मुख्य द्वार पर बेतरतीब पार्किंग से मुख्य द्वार पूरी तरह से बाधित हो जाता है। यही नहीं महल की घाटी पर दोनों ओर बेतरतीब पार्किंग से हैरिटेज स्मारक की भव्यता को बदनुमा दाग लग रहा है। वहीं राहगीरों के लिए भी यह परेशानी भरा साबित हो रहा है। रोड सेफ्टी क्लब के अध्यक्ष विशाल तोमर हालांकि इस स्थल को पार्किंग मुक्त करने के तहत कदम उठाने की बात कहकर येलो लाइन मार्क करने का खाका तैयार करवाया है, मगर देखना होगा कि ऐतिहासिक धरोहर के प्रति प्रशासन, नगर परिषद और बाशिंदे कितने संजीदा हैं।

You might also like