बेरहम बारिश :  हिल गया हिमाचल

*  मौसम विभाग ने जारी किया हाई अलर्ट *   24 घंटे में भारी तबाही 458 करोड़ नुकसान *   भू-स्खलन बेकाबू 323 सड़क मार्ग बंद *   चंबा पर ज्यादा मार, कौर गांव का अस्तित्व खतरे में *   नदी-नाले उफान पर कई घर ढहे, कई हादसे

मां चामुंडाजी मंदिर के बाहर उफान पर बनेर खड्ड

शिमला – 24 घंटों से लगातार बारिश ने हिमाचल में तबाही मचा दी है। चंबा में भारी बारिश ने सबसे ज्यादा कहर ढहाया है और भू-स्खलन से जिला के कौर गांव का अस्तित्व खतरे में आ गया है। प्रशासन ने एहतिहातन पूरा गांव खाली करवा दिया है। बारिश की मार को देखते हुए मौसम विभाग ने रविवार को  हाई अलर्ट जारी किया है। पिछले 24 घंटे में लगातार बारिश से हिमाचल को 458 करोड़ 46 लाख का नुकसान हो चुका है। लोक निर्माण विभाग को सबसे अधिक 290 करोड़ 64 लाख की चपत लगी है। वहीं, आईपीएच विभाग को 167 करोड़ 82 लाख का नुकसान हो चुका है। विभाग की अभी 3390 स्कीमें ठप्प पड़ी हुई हैं। उधर, प्रदेश में शनिवार को भारी बारिश के कारण जगह-जगह भू-स्खलन की खबरें आईं। प्रदेश में बारिश के चलते 323 मार्ग वाहनों की आवाजाही के लिए ठप्प पड़ गए है। कांगड़ा जोन में सबसे अधिक 129 मार्ग अवरुद्ध है। इसके अलावा मंडी जोन में 122, शिमला में 66 व हमीरपुर में छह मार्ग वाहनों के लिए बंद होे गए है। हालांकि लोक निर्माण विभाग ने अवरुद्ध मार्गों को बहाल करने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य आरंभ कर दिया है। मगर रूक-रूककर हो रही बारिश राहत कार्य के आडे़ आ रही है। उधर, प्रदेश में भारी बारिश से नदी-नालें उफान पर है। बारिश के कारण अधिकतर नदियों में जल स्तर बढ़ गया है। सभी नदियों में जल स्तर खतरे से ऊपर आ गया है। प्रशासन ने सभी को नदी नालों से दूर रहने की हिदायत दी है। वहीं, बारिश से हिमाचल में हादसों की खबर भी आईं हैं। चंबा में बारिश के कारण एक कच्चा मकान गिर गया है। मकान के भीतर मां व बेटी मलबे की चपेट में आ गई, जिन्हें गंभीर चोटें आई है। वहीं, हमीरपुर के बाग चौकी में एक युवक के डूबने से मौत हुई है। राज्य में भारी बारिश से कई स्थानों पर मकानों को नुकसान पहुंचा है। चंबा में सात कच्चे मकान क्षतिग्रस्त हो गए है। हमीरपुर में तीन, तीसा में चार, बिलासपुर में दो, शाहपुर व ज्वालामुखी में एक-एक मकान को नुकसान पहुंचा है।

बारिश की आफत से आज भी राहत नहीं

शिमला – हिमाचल प्रदेश में रविवार को भी बारिश का दौर खत्म नहीं होगा। मौसम विभाग ने राज्य के अधिकांश क्षेत्रों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। विभाग की मानें तो इस दौरान राज्य के मैदानी इलाकों सहित शिमला, कुल्लू, सिरमौर, मंडी, सोलन व चंबा में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होगी। मौसम विभाग ने राज्य के उक्त क्षेत्रों में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। विभाग के पूर्वानुमान के तहत राज्य में 22 अगस्त तक मौसम खराब बना रहेगा।             

(विस्तृत पेज दो पर)

शेष विश्व से कटा चंबा, पठानकोट एनएच बंद

चंबा – चंबा जिला में जारी बारिश के दौर के चलते जगह- जगह भू-स्खलन होने से पठानकोट एनएच पर यातायात ठप होकर रह गया। पठानकोट एनएच बंद होने से चंबा जिला का संपर्क शेष विश्व से पूरी तरह कटकर रह गया है। जिला के विभिन्न उपमंडलों के मुख्य सहित संपर्क मार्गों पर भी भू-स्खलन व पत्थर गिरने से वाहनों के पहिए थमकर रह गए हैं। वहीं, चुवाड़ी के पास चक्की खड्ड के तेज बहाव की चपेट में आकर प्रोजेक्ट की करोड़ों रुपए की मशीनरी बह गई है।                         

(विस्तृत पेज दो पर)

फिर उजड़ा सौरभ वन विहार

पालमपुर – लगातार बारिश से न्यूगल खड्ड ने रौद्र रूप धारण किया है। इसी के रौद्र रूप ने एक बार फिर सौरभ वन विहार का रुख किया और पिछले साल सितंबर में मिले जख्मों पर मानो नमक छिड़क दिया।

(विस्तृत पेज दो पर)

बह गई कार

पांवटा साहिब – पांवटा साहिब के सतौन-रेणुकाजी सड़क मार्ग पर टिक्कर खाले में भारी बारिश से सड़क पर आए दलदल में छह श्रद्धालुओं से भरी कार फंस गई। गनीमत रही कि समय रहते सभी सवार कार से कूद गए और कार दलदल के साथ करीब 500 मीटर नीचे बह गई।

(विस्तृत पेज दो पर)

ब्यास नदी में रेस्क्यू आपरेशन

पतलीकूहल – मनाली-चंडीगढ़ नेशनल हाई-वे के साथ पतलीकूहल के पास ब्यास नदी के बीचोंबीच दो ट्रकों के साथ-साथ दो व्यक्ति भी फंस गए। प्रशासन ने इसके बाद मुश्किल से उन्हें रेस्क्यू कर लिया।

(विस्तृत पेज दो पर)

रोहतांग रोड बंद

कुल्लू – जिला कुल्लू के विभिन्न क्षेत्रों में बारिश के चलते जगह-जगह भारी नुकसान हुआ। लाहुल-स्पीति की ओर से कोकसर के पास नाले में पानी का जलस्तर बढ़ जाने से यहां दोपहर बाद से रोहतांग मार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया।

(विस्तृत पेज दो पर)

कालका-शिमला एनएच पर भू-स्खलन

धर्मपुर (सोलन) – कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर सनवारा के पास पहाड़ से भारी मात्रा में भू-स्खलन हो गया। भू-स्खलन होने से लगभग आधा घंटा तक सड़क पर वाहनों के पहिए थम रहे।

(विस्तृत पेज दो पर)

You might also like