भरमौर एनएच ले रहा शिव भक्तों की परीक्षा

चंबा  -हड़सर से मनीमहेश डल झील की खड़ी चढ़ाई के मार्ग में आने वाले खतरनाक  पड़ाव भैरोघाटी एवं बांदरघाती की कठिन डगर से पहले एनएच 154-ए जिला मुख्यालय चंबा से खड़ामुख भोले के भक्तों का कड़ा इम्तिहान ले रहा है। गड्ढों में तबदील ऊबड़ खाबड़ भरे सड़क मार्ग के पड़ाव को पार कर खड़ामुख पहुंचने वाले शिव भक्तों सहित वाहन की शकल सूरत ही अलग हो रही है। सबसे अधिक परेशानी उन शिव भक्तों को झेलनी पड़ रही है, जो दोपहिया वाहन के माध्यम से शिवभूमि भरमौर पहुंच रहे है। धूल मिट्टी से सने खड़ामुख पहुंच रहे दोपहिया वाहन पर सवार श्रद्धालुओं को एक-दूससे को पहचानने में भी चकमा लग रहा है। पवित्र डल झील पर डुबकी लगाने शिवभूमि पहुंचने वाले देशभर के शिव भक्त सड़क के ऐसे हालात को देख कई तरह के सवाल खड़े कर रहे हैं। उधर, पहले से ही बदतर हालात से गुजर रहे चंबा-भरमौर एनएच की हालात पिछले सप्ताह हुए बेरहम बारिश की वजह से ओर भी बदतर हो गई है। हालांकि  एनएच प्राधिकरण यात्रा से पहले भरमौर एनएच पर कोलतार बिछा कर शिवभक्तों का स्वागत चकाचक मार्ग से करने की बात कर रहा था, लेकिन भौगोलिक परिस्थितियों के साथ मौसम की बेरुखी की बजह से कार्य संपन्न नहीं हो पाया। अगर पहाड़ी जिला चंबा की बात करें तो पिछले सप्ताह हुई बारिश को छोड़ कर चंबा में मानसून पहले की तरह हावी नहीं रहा।  बावजूद इसके भी हालात न सुधरना अपने आप में एक सवाल है। उधर, मौसम मेहरबान रहने पर एनएच प्राधिकरण मार्ग के हालात सुधारने की बात कर रहा है, वहीं शिवभक्तों के अलावा स्थाय निसासी एवं मार्ग पर हर रोज गुजर रहे वाहन चालक भी विभाग से चंबा से खड़ामुख तक जल्द मार्ग के हालात सुधारने की मांग रहे हैं।

You might also like