भारी बरसात में भी लोगों को पीने को पानी नहीं

नालागढ़ -नालागढ़ शहर के लोगों के हलक बरसात के मौसम में भी सूखे रह गए हैं, क्योंकि भारी बारिश के चलते चिकनी नदी के उफान में आने से पेयजल आपूर्ति की पाइप लाइन नदी के बहाव में बह गई है। नतीजतन शहर को जलापूर्ति नहीं हो पाई है और बरसात के मौसम में भी शहर के लोगों को पीने का पानी नहीं मिल पाया है। रविवार को आईपीएच की जलापूर्ति शहर में नहीं हो सकी है। हालांकि विभाग शहर में पेयजल आपूर्ति मुहैया करवाने के लिए नई पाइपों को जोड़ने में जुटा हुआ है और विभाग के अधिकारियों ने मौके का जायजा लेकर राइजिंग मेन को दुुरुस्त बनाने का कार्य आरंभ कर दिया है। जानकारी के अनुसार, जहां एक ओर प्रदेश में हुई भारी बारिश के चलते शहर पानी से लबालब भर गया, वहीं दूसरी ओर लोग पेयजल को ही तरस गए हैं। नालागढ़ शहर को होने वाली पेयजल आपूर्ति की मुख्य पाइप लाइन चिकनी नदी के उफान में आने के कारण बह गई, जिससे शहर में जलापूर्ति प्रभावित हो गई है। जलापूर्ति की राइजिंग मेन 200 एमएम व 250 एमएम की पाइपें बह गई। वहीं, गोलजमाला वाली पाइप लाइन को भी क्षति पहंुची है। पानी के न आने से लोगों की परेशानी बढ़ गई और लोग प्राकृतिक व अन्य जलस्रोतों पर निर्भर होकर रह गए हैं। बता दें कि आईपीएच विभाग चिकनी नदी से उठाऊ पेयजल माध्यम से जलापूर्ति करवाता है। चिकनी नदी किनारे से राइजिंग मेन से पानी भल्लेश्वर महादेव के दो टैंकों में आता है। इन दो टैंकों की क्षमता एक की 10 लाख लीटर और दूसरे की नौ लाख लीटर है। इसके बाद पानी लोगों को वितरित किया जाता है। भल्लेश्वर महादेव  में स्थित एक टैंक से शहर के वार्ड-दो, तीन, चार, आठ व नौ सहित रखराम सिंह, कालेज को पेयजल आपूर्ति होती है, जबकि दूसरे टैंक से पहले पानी गुरुद्वारे के पास बनाए स्टोरेज टैंक में आता है, जिससे वार्ड-एक, दो, पांच, छह व सात को सप्लाई दी जाती है। नालागढ़ शहर के तहत नौ वार्ड आते हैं, जिसमें करीब 30 हजार लोग रहते हंै। स्थानीय लोगों के अलावा शहर में दूरदराज क्षेत्रों से उद्योगों में काम करने आए लोग भी किराए के मकान लेकर रह रहे हैं। ऐसे में मुख्य स्रोत से आने वाली पेयजल आपूर्ति की पाइपें पानी में बह जाने के कारण भंडारण टैंकों तक पानी ही नहीं पहंुच पाया। आईपीएच नालागढ़ डिवीजन के एक्सईएन आरके खाबला ने कहा कि शहर को होने वाली पेयजल आपूर्ति की दोनों पाइप लाइनें नदी के बहाव में बह गई है और शहर की जलापूर्ति को सुचारू बनाने के लिए विभाग प्रयासरत है तथा शहर की पेयजल आपूर्ति सुचारू बना दी जाएगी।

 

You might also like