यहां हर घर में आते हैं गुग्गा जी महाराज।

करसोग। मंडी जिला के पांगणा में गुग्गा रथयात्रा पर्व की अपनी विशिष्ट पहचान है। पांगणा के रमणीकबाग गांव के नाथ बिरादरी के लोग गुग्गा गाथाओं को एक महीने तक घर-घर जाकर गाते हैं। इन मंगलमुखी गायकों के मुताबिक भादो माह में जब देवता स्वर्ग प्रवास पर चले जाते हैं, तो गुग्गा जी ही ब्रह्मांड की रक्षा करते हैं। सुकेत अधिष्ठात्री राज-राजेश्वरी महामाया पांगणा के दुर्ग मंदिर में सिंहासनी गुग्गा महाराज और गुग्गी जी केवल साल में एक बार भादो माह में ही रथयात्रा पर निकलते हैं। क्षेत्र के हर घर-आंगन में पधार कर गुग्गा जी और गुग्गी जी परिवार को अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं। हालांकि लोकगाथाओं के माध्यम से अपनी दीर्घकालिन परंपरा को जीवित बनाए हुए लोक गायक कहते हैं कि अब सामाजिक तानाबाना पहले जैसा नहीं रहा। मंगल गायन और मंगल कामना के एवज में जो सम्मान पहले मिलता था, वैसा अब नहीं। आज अपनी संस्कृति के पुन: जागरण के लिए समय रहते हर नागरिक को जुट जाना होगा।

You might also like