रक्षा मंत्रालय की हां का इंतजार, भरमौर में चौपर खड़े बेकार

मणिमहेश यात्रा को लेकर हेलिपैड पर खड़े हेलिकाप्टर, मंजूरी न मिलने से यात्रियों को झेलनी पड़ रहीं दिक्कतें

भरमौर -मणिमहेश यात्रा में हेलि टैक्सी सेवा आरंभ करने की अभी तक रक्षा मंत्रालय की ओर से मंजूरी नहीं मिल पाई है, जिस कारण हवाई सेवा की आस में बैठे यात्रियों का इंतजार भी बढ़ रहा है। शनिवार और रविवार को अवकाश होने के चलते अब सोमवार को सेवा शुरू होने की आस है। उल्लेखनीय है कि मणिमहेश यात्रा में भरमौर से गौरीकुंड तक हवाई उडानें लंबे समय से हो रही है। इस मर्तबा यूटी एयर ओर ट्रांस भारत को हवाई सेवाएं प्रदान करने का जिम्मा मिला है। इसके लिए कंपनी के तीन हेलिकाप्टर उपमंडल मुख्यालय भरमौर स्थित हेलिपैड पर पहुंच चुके है, लेकिन रक्षा मंत्रालय की अभी तक मंजूरी न मिल पाने के चलते सेवाएं आरंभ नहीं हो सकी है। उपमंडलीय प्रशासन एवं न्यास पहले ही साफ कर चुका है कि मामला यात्रियों की सुरक्षा से जुड़ा है। लिहाजा बिना परमिशन के हवाई उडानें न करने के कंपनियों को आदेश दिए गए है। उधर, हेलिटैक्सी सेवा आरंभ होने की आस में सैकड़ों की तादाद में यात्री भरमौर में ही डेरा जमाएं हुए है और यहां के होटलों में रुके हुए है। हवाई सेवा आरंभ न होने से यात्रियों की डल झील में डुबकी लगाने का इंतजार बढ़ रहा है। वहीं न्यास को भी आर्थिक रूप से नुक्कसान उठाना पड रहा है। बहरहाल, इस मर्तबा भी रक्षा मंत्रालय की मंजूरी न मिलने से मणिमहेश यात्रियों का हेलिकाप्टर के जरिए यात्रा करने का इंतजार काफी लंबा खिंच गया है। बतातें चलें कि उपमंडलीय प्रशासन की ओर से 20 अगस्त से यात्रियों को हेलीटैक्सी उपलब्ध होने की बात कही गई थी।

You might also like