साथी समेत ढेर हुआ जैश का टॉप कमांडर जीनत नायकू

श्रीनगर – जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार सुबह से ही जारी मुठभेड़ में सेना ने जैश के एक और टॉप कमांडर को मार गिराया है। मारे गए जैश कमांडर की पहचान जीनत नायकू के रूप में हुई है, जिसके पास से भारी मात्रा में गोला-बारूद और अन्य सामान बरामद हुए हैं। सूत्रों के अनुसार, जीनत नायकू अपने एक साथी (मंजूर भट) के साथ यहां एक मकान में छिपा था, जिसे शुक्रवार को ही सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया था।  कश्मीर में मारा गया जीनत नायकू पहले आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के साथ काम करता था। हिज्बुल के साथ काम करने के दौरान ही उसने कई बड़ी आतंकी साजिशें रची थी। बाद में हिज्बुल कमांडर रियाज नायकू से मतभेद होने के बाद जीनत ने जैश के आतंकी संगठन आतंकी संगठन अल बद्र की कमान संभाल ली थी। सुरक्षा एजेंसियों ने जीनत को ऑपरेशन ऑलआउट की लिस्ट में शामिल किया था और तब से ही उसकी तलाश की जा रही थी। मंजूर भट खतरनाक आतंकियों में शुमार था और उसने हिज्बुल के कई आतंकी साजिशों की प्लानिंग की। 

कई आतंकी हमलों में शामिल था नायकू :  जीनत पर कई आतंकी हमलों में शामिल होने का आरोप था और सुरक्षा एजेंसियों ने उसे A++ कैटिगरी का आतंकी घोषित करते हुए उसपर इनाम भी घोषित किया था। शुक्रवार सुबह सेना को शोपियां में जिन आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, उनमें से जीनत भी एक था। इन इनपुट्स के बाद इलाके में सेना की 34 राष्ट्रीय राइफल्स, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों को सर्च ऑपरेशन के लिए भेजा गया। 

मुठभेड़ में सेना का एक जवान भी शहीद :  इसी बीच आतंकियों ने इलाके से भागने की कोशिश की, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई शुरू करते हुए जवानों ने एक मकान को घेर लिया। आतंकियों की ओर से हो रही भारी गोलाबारी को देखते हुए इलाके में सख्त सुरक्षा बंदोबस्त कराए गए। इसके अलावा हिंसक प्रदर्शनों की आशंका को देखते हुए इंटरनेट सेवाओं पर भी रोक लगा दी गई। मुठभेड़ शुरू होने के कुछ घंटों बाद सेना ने जीनत के साथी को ढेर कर दिया। इसके बाद शनिवार सुबह जीनत को भी मार गिराया गया। इस मुठभेड़ में सेना का एक जवान भी घायल होने के बाद शहीद हो गया। 

You might also like