सुरगानी सुंडला को चाहिए वित्तीय मदद

सरकारी क्षेत्र में तैयार होगा एक और प्रोजेक्ट, 48 मेगावाट की क्षमता

शिमला -सरकारी क्षेत्र में एक और बिजली परियोजना के तैयार होने का इंतजार किया जा रहा है। पावर कारपोरेशन की सुरगानी सुंडला परियोजना को आर्थिक मदद की दरकार है, जिसके लिए पावर कारपेरेशन फंडिंग एजेंसियों से संपर्क में है। उसके पिछले प्रोजेक्टों को एडीबी व विश्व बैंक से मदद मिली है, लिहाजा अब नए प्रोजेक्टों के लिए भी वह इसी तरह की बाहरी वित्तीय एजेंसियों से मदद का प्रयास कर रहा है। बताया जाता है कि इस परियोजना की अधिकांश औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं और सिर्फ फंडिंग का ही इंतजार है। इस प्रोजेक्ट के निर्माण से पावर कारपोरेशन के साथ सरकार की कमाई भी बढ़ेगी। वर्तमान में निगम का टारगेट सावड़ा कुडु परियोजना को सिरे चढ़ाने का है, जो कि 111 मेगावाट क्षमता की परियोजना है। बताया जाता है कि सुरगानी सुंडला परियोजना की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार हो चुकी है। इसके बाद इसे टेक्नो इकनॉमिक क्लीयरेंस भी मिल चुकी है, वहीं पर्यावरण मंजूरी भी हासिल हो गई है। प्रोजेक्ट के लिए 32.91 हेक्टेयर वन भूमि को हस्तांतरित करने की भी सैद्धांतिक मंजूरी हासिल है। इसके लिए पर्यावरण मंत्रालय को दो करोड़ 81 लाख 25 हजार 675 रुपए की राशि भी जमा करवाई जा चुकी है। साथ ही प्रोजेक्ट का माइनिंग प्लान भी अप्रूव हो चुका है। 4.61 हेक्टेयर की अतिरिक्त वन भूमि को ट्रांसफर करने का मामला केंद्रीय मंत्रालय को भेजा गया है, जो कि प्रोसेस में है। इतना ही नहीं प्रोजेक्ट के लिए रक्षा मंत्रालय की स्वीकृति भी वांछित थी, जो कि हासिल कर ली गई है। विधानसभा में सरकार की ओर से इस प्रोजेक्ट को लेकर विस्तार से जानकारी दी गई है और कहा गया है कि फंडिंग का मामला हल होते ही इस पर काम भी शुरू कर दिया जाएगा। इसके बनने से सरकार क्षेत्र को बेहद लाभ होगा, वहीं स्थानीय लोगों को रोजगार भी हासिल हो सकेगा।

You might also like