सेंसेक्स 463 अंक टूटा, पाँच महीने के निचले स्तर पर

विदेशों से मिले कमजोर संकेत के बीच बैंकिंग, वित्त, आई टी और टेक क्षेत्र की कंपनियों में बिकवाली से घरेलू शेयर बाजारों में गुरुवार को सवा फीसदी से ज्यादा की गिरावट रही और ये पाँच महीने के निचले स्तर पर आ गये। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 462.80 अंक यानी 1.23 प्रतिशत टूटकर 37,018.32 अंक पर आ गया जो आठ मार्च के बाद का इसका निचला स्तर है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 105.40 अंक यानी 1.24 प्रतिशत की गिरावट में एक मार्च बाद के निचले स्तर 10,980 अंक पर बंद हुआ। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने बुधवार को नीतिगत दरों में चौथाई फीसदी की कटौती जरूर की, लेकिन साथ ही यह भी कहा कि वह दीर्घावधि में ब्याज दरों में कटौती की ओर नहीं बढ़ रहा। इससे अधिकतर अन्य एशिया शेयर बाजारों के साथ ही घरेलू शेयर बाजारों में भी गिरावट रही।एशिया में दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.36 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसेंग 0.76 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.81 प्रतिशत लुढ़क गया, हालाँकि जापान के निक्की में 0.09 प्रतिशत की तेजी रही। यूरोपीय बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी रही। ब्रिटेन का एफटीएसई 0.22 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.37 प्रतिशत मजबूत रहा। घरेलू बाजार में धातु, बुनियादी वस्तुओं, दूरसंचार और टेक समूहों के सूचकांक सबसे ज्यादा टूटे। सेंसेक्स की कंपनियों में वेदांता ने साढ़े पाँच फीसदी, टाटा मोटर्स और भारतीय स्टेट बैंक ने साढ़े चार फीसदी, भारती एयरटेल ने चार प्रतिशत से अधिक का नुकसान उठाया। बाजार में जारी बिकवाली के बीच भी मारुति सुजुकी के शेयर करीब दो प्रतिशत चढ़े। 

You might also like