हरिपुरधार-कुपवी मार्ग हफ्ते से बंद

बारिश-भू-स्खलन के चलते सड़क पर आवाजाही ठप, सड़कें बंद होने से 500 टन सेब फंसा

नौहराधार –हरिपुरधार-कुपवी संपर्क मार्ग पिछले सात दिनों से शेष हिमाचल से कटा हुआ है। 18 अगस्त को हुई भारी बारिश के बाद क्षेत्र के सभी प्रमुख मार्ग बंद हैं। भारी बारिश के कारण कुपवी तहसील को राजधानी शिमला व सिरमौर से जोड़ने वाले दोनों प्रमुख मार्ग पिछले सात दिनों से बंद हैं। बारिश के कारण लोक निर्माण विभाग को लगभग तीन करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है। क्षेत्र में प्रमुख सड़कों को बहाल करने में अभी पांच से सात दिनों का समय ओर लग सकता है। सड़कें बंद होने से क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में 500 टन से अधिक सेब फंसा हुआ है। राजधानी शिमला से जोड़ने वाले कुपवी-हरिपुरधार-नौहराधार मार्ग पर कई स्थानों पर भारी भू-स्खलन हुआ है। पंचभैया खड्ड के समीप लगभग 60 मीटर सड़क टूटी है। वहां पर मात्र डेढ़ से दो फुट चौड़ी सड़क ही शेष बची है। पंचभैया और कुपवी के बीच बड़े वाहनों की आवाजाही पिछले सात दिनों से पूरी तरह से ठप होने से कुपवी में दर्जनों वाहन फंसे हुए हैं। कुपवी में चार सरकारी बसें व तीन निजी बसों के अलावा दर्जनों अन्य वाहन फंसे हुए हैं। बड़े वाहनों की आवाजाही बंद होने के कारण कुपवी क्षेत्र के लिए खाद्य सामग्री के अलावा भवन सामग्री व अन्य जरूरी सामान की सप्लाई ठप हो गई है। हालांकि कुपवी और हरिपुरधार के बीच छोटे वाहन की आवाजाही शुरू हो गई है, मगर बस सेवाएं बंद होने से क्षेत्र के हजारों लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कुपवी-सेंज-नेरवा मार्ग पर गवाह खड्ड का पानी सड़क पर जाने से वहां पर आधा किमी सड़क का नामोनिशान मिट गया है। मसराह खड्ड में भी 70 मीटर सड़क टूट गई है।  गवाह में लोक निर्माण विभाग ने 500 मीटर नई सड़क बनाने का कार्य लगभग पूरा कर दिया है। तराह में छह मीटर लंबा कलवट पानी में बह गया है। कलवट के साथ लगभग 30 मीटर सड़क का भी नामोनिशान मिट गया है। कुपवी-धोताली मार्ग के पास भारी बाढ़ आने से हर खड्ड में 60 से 70 मीटर सड़क टूट गई है। बारिश के बाद कुपवी क्षेत्र में हुए भारी नुकसान को लेकर प्रशासन भी अर्ल्ट हो गया है। एसडीएम चौपाल के अलावा एडीएम व लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता चीफ नुकसान का जायजा लेने के लिए कुपवी का दौरा कर चुके हैं।

क्या कहते हैं पीडब्ल्यूडी के एसडीओ

लोक निर्माण विभाग के एसडीओ अजय गाजटा ने बताया कि भारी बारिश से विभाग को तीन करोड़ का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र की सभी सड़कों को खोलने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। सड़कों को खोलने के लिए नौ जेसीबी मशीनें, दो एलएनटी मशीनें, तीन टिप्पर के अलावा 15 मशीनों व गाडि़यों को लगाया गया है। हरिपुरधार-कुपवी मार्ग को छोटे वाहनों के लिए खोल दिया है। बड़े वाहनों के लिए अभी पांच दिन का समय लगेगा।

You might also like