अर्की कालेज का किया निरीक्षण

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद की गठित पीयर टीम ने किया निरीक्षण

अर्की -राजकीय महाविद्यालय अर्की में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद द्वारा गठित पीयर टीम द्वारा दो दिवसीय दौरे में महाविद्यालय का निरीक्षण किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय प्राचार्या रीता शर्मा ने पीयर टीम का स्वागत किया तथा महाविद्यालय के पिछले पांच वर्षों के विकास का विवरण प्रस्तुत किया। महाविद्यालय में कार्यरत अंग्रेजी प्राध्यापक एवं आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ के समन्वयक डा. कुंवर दिनेश सिंह ने महाविद्यालय प्रशासन, शिक्षण, शोधकार्य एवं छात्रों के सम्यक उत्थान के लिए किए गए महत्त्वपूर्ण कार्यों का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया। इस दो दिवसीय निरीक्षण दौरे के प्रथम दिवस टीम ने महाविद्यालय के सभी विभागों, प्रयोगशालाओं, कक्षाओं, स्मार्ट-कक्षाओं, सूचना-प्रौद्योगिकी प्रयोगशालाओं, पुस्तकालय, खेल-मैदान एवं अन्यस भी सुविधाओं का मूल्यांकन किया। साथ ही प्राध्यापकों, छात्रों, अभिभावकों, छात्र परिषद तथा गैर शिक्षक कर्मचारियों से अलग-अलग मुलाकात की व वांछित जानकारी एकत्रित की। सायंकाल में महाविद्यालय सभागार में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें अंग्रेजी के प्राध्यापक डा. कुंवर दिनेश सिंह ने मंच संचालन किया तथा संगीत विभाग के प्राध्यापक प्रो. प्रवीण भाटिया व प्रो. प्रेम पाल के निर्देशन में छात्र-छात्राओं ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया, जिसमें सरस्वती वंदना, महाविद्यालय कुलगीत, गजल, सितार वादन और गिद्दा प्रमुख आकर्षण रहे। निरीक्षण दौरे के द्वितीय दिवस निरीक्षण दल ने महाविद्यालय के लेखा प्रभाग, योग केंद्र, जिम्ननेजियम, बॉक्सिंग रिंग, महिला सशक्तिकरण प्रकोष्ठ, ई-रिसोर्स केंद्र तथा अन्य सुविधाओं का मूल्यांकन किया। साथ ही महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई का सर्वेक्षण किया। इकाई के कार्यक्रम अधिकारी डा. सुनील चौहान ने इस योजना के अंतर्गत स्वयंसेवी छात्रों द्वारा की गई विभिन्न सामाजिक सांस्कृतिक गतिविधियों एवं जन-जागरण अभियानों का प्रलेख प्रस्तुत किया। छात्रों द्वारा विकसित ग्रीन-पार्क एवं वर्मी कंपोस्ट स्थल का भी मुआयना किया गया। दूसरे दिन सायं निरीक्षण दल ने एक्जिट मीटिंग की, जिसमें टीम के अध्यक्ष प्रो. अली रजा मूसवी ने निरीक्षण संबंधी अपनी समीक्षा प्रस्तुत की तथा महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो. रीता शर्मा को अपनी सीलबंद रिपोर्ट प्रस्तुत की, जिसके आधार पर महाविद्यालय को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा ग्रेड दिया जाएगा और यह रिपोर्ट भी तभी सार्वजनिक की जा सकेगी।

You might also like