आखिरकार चिन्मयानंद गिरफ्तार

रेप मामले में कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

शाहजहांपुर – कानून की छात्रा के साथ बलात्कार के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता स्वामी चिन्मयानंद को आखिरकार शुक्रवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बाद में उन्हें मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ओमबीर सिंह की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। जेल में उनके साथ जांच एजेंसी एसआईटी के लोग भी थे, जो उन्हें छोड़ कर वापस आ गए। जेल ले जाने से पहले उनका मेडिकल परीक्षण भी कराया गया। पीडि़त छात्रा ने चार दिन पहले मजिस्ट्रेट के सामने धारा 164 के तहत अपना कलमबंद बयान दर्ज कराया था, जिसमें उसने चिन्मयानंद पर कई बार बलात्कार करने और नहाते वक्त का वीडियो बनाने का आरोप लगाया था। छात्रा ने अपने आरोप में 59 सबूत पेश किए थे, जिसमें 40 से ज्यादा सबूत एक पेन ड्राइव में थे । छात्रा के बयान के बाद से ही चिन्मयानंद पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी । बयान देने वाले दिन से ही स्वामी की तबीयत बिगड़ गई । उन्हें गुरुवार शाम डाक्टरों ने लखनऊ के संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान भेजने को कहा था, लेकिन स्वामी अपने आश्रम में बने आवास में आ गए थे, जहां से उन्हें शुक्रवार सुबह गिरफ्तार किया गया। यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने चिन्मयानंद की गिरफ्तारी पर मीडिया को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद हमने विशेष जांच टीम (एसआईटी) बनाई थी। जांच के बाद स्वामी चिन्मयानंद को हमने उनके आश्रम से गिरफ्तार किया और उन्हें जेल भेज दिया गया है। इस मामले में कार्रवाई में कोई देरी नहीं हुई। इसके साथ ही चिन्मयानंद को वसूली के लिए धमकी देने के आरोप में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

अपने कृत्य पर आती है शर्म

एसआईटी ने दावा किया कि चिन्मयानंद ने गलती स्वीकारते हुए कहा कि पीडि़त लड़की को मसाज के लिए बुलाना गलती है। मुझे अपने कृत्य पर शर्म आती है।

रेप के अलावा सभी जुर्म कबूले

शाहजहांपुर। कानूनी छात्रा के साथ यौन शोषण के आरोप में  गिरफ्तार पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वामी चिन्मयानंद ने पुलिस के सामने रेप के अलावा अपने सभी जुर्म कबूल कर लिए हैं।

You might also like