आम आदमी को महंगाई से राहत

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने जारी किए आंकड़े, स्थिर रही मुद्रास्फीति

नई दिल्ली – बाजार में आवक बनी रहने से अगस्त 2019 में थोक मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर पिछले महीने के मुकाबले 1.08 प्रतिशत पर स्थिर दर्ज की गई है। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने सोमवार को यहां जारी आंकड़ों में बताया कि अगस्त 2018 में थोक मुद्रास्फीति की दर 4.62 प्रतिशत रही थी। जुलाई 2019 में थोक मुद्रास्फीति की दर 1.08 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। चालू वित्त वर्ष में अगस्त तक  बिल्डअप मुद्रास्फीति की दर 1.25 प्रतिशत रही है। इससे पिछले वित्त वर्ष में यह आंकडा 3.27 प्रतिशत रहा था। हालांकि साग सब्जियों के दाम बढने के कारण अगस्त 2019 में खाद्य पदार्थों की थोक मुद्रास्फीति 5.75 प्रतिशत हो गई है, जबकि जुलाई 2019 में यह 4.54 प्रतिशत रही थी। खाद्य वस्तु समूह के पान पत्ता, मसाले और ज्वार के दाम चार प्रतिशत बढ़े हैं। रागी, जौ, फल और सब्जी एवं सूअर का मांस तीन प्रतिशत, मछली, गेंहू, अरहर, मक्का और गाय एवं भैंस का मांस दो प्रतिशत, समुद्री मछली, दूध, मटर फली, राजमा, धान और बकरे का मांस एक प्रतिशत बढ़ा है। हालांकि इसी समूह के अंडा, सात प्रतिशत, चाय, मुर्गे का मांस और चना के दाम एक एक प्रतिशत गिरे हैं। विनिर्मित खाद्य उत्पाद समूह में खोई छह प्रतिशत, विनिर्मित पोषक तत्व पांच प्रतिशत, चावल छिलका तेल नमक दो प्रतिशत गिरे हैं।

11 प्रतिशत कम हुए रसोई गैस के दाम

गैर खाद्य वस्तु समूह के तिल चार प्रतिशत, सूरजमुखी तीन प्रतिशत, नारियल, मूंगफली दो प्रतिशत, जूट, सरसों और सोयाबीन के दाम एक प्रतिशत नीचे आएं हैं। हालांकि इसी वर्ग में कच्ची खाल, कच्ची रबड़, कच्ची कपास और चारा के दाम एक प्रतिशत बढ़े हैं। अगस्त 2019 में प्राकृतिक गैस के दाम तीन प्रतिशत और कच्चे तेल के दाम एक प्रतिशत बढ़े हैं। फरनेस तेल चार प्रतिशत, विमान ईंधन और मिट्टी तेल तीन प्रतिशत ऊंचे रहे हैं। रसोई गैस के दाम 11 प्रतिशत, और पेट्रोलियम कोक के दाम दो प्रतिशत कम हुए हैं।

You might also like