इंजीनियर्स डे पर ‘दिव्य हिमाचल’ का महा आयोजन

सरकार और अभियंताओं ने एक मंच पर किया चुनौतियों से निपटने पर मंथन

 शिमला के पीटर हॉफ में दो सत्र में विचार-विमर्श,  मुख्यमंत्री की उपस्थिति ने बढ़ाई कार्यक्रम की सार्थकता,  हर निर्माण में नींव को मजबूत रखने पर जोर,  वर्कशॉप में सामने आए मुद्दों को निष्कर्ष तक पहुंचाने का संकल्प,  अपनी तरह के पहले प्रयास की हर किसी ने की सराहना

शिमला -‘इंजीनियर्स डे’ के मौके पर ‘दिव्य हिमाचल’ द्वारा पीटरहॉफ में आयोजित विशेष सेमीनार में प्रदेश के अभियंताओं को इंजीनियरिंग सीखने का मौका मिला। ‘इंजीनियर्स डे’ महान इंजीनियर भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्ववेश्वरैया की स्मृति में मनाया जाता है, जिन्होंने अभियंताओं को निर्माण क्षेत्र में आगे बढ़ने की सीख दी थी। उन्हीं के दिखाए रास्ते पर आगे बढ़ते हुए ‘दिव्य हिमाचल’ मीडिया गु्रप ने एक नई और अनूठी पहल की। इंजीनियर्स डे के मौके पर प्रदेश की राजधानी स्थित पीटरहॉफ में अभियंताओं के लिए आयोजित भव्य समारोह में खुद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर मौजूद रहे। उनके साथ उनकी टीम भी यहां थी, जिनके सामने प्रदेश में प्राकृतिक आपदाओं और चुनौतियों पर मंथन किया गया। सभी ने माना कि इंजीनियर्स के सामने कई अहम चुनौतियां हैं और  इन चुनौतियों से पार पाने के लिए मंथन जरूरी है और इस मंथन पर कदम उठाना बेहद जरूरी है। अभियंता कुछ नया सीखें और सरकार इसमें उनकी मदद करे तो हिमाचल न केवल सुरक्षित रहेगा, बल्कि गुणवत्ता युक्त निर्माण से प्रदेश की तस्वीर भी बदलेगी। इस पूरे कार्यक्रम में यह एक अहम बात उभरकर सामने आई, जिसमें अभियंताओं को नींव मजबूत रखने की सीख दी गई। चाहे वह सड़कों का क्षेत्र हो या फिर भवनों का निर्माण, इसमें गुणवत्ता पर अधिक ध्यान देने को कहा गया। आधुनिक तकनीक को अपनाकर आम जनता को भी सुरक्षित निर्माण के लिए नसीहत दी गई। यह भी कहा गया कि इस वर्कशॉप में सामने आए मुद्दों को निष्कर्ष तक पहुंचाया जाए। खुद सरकार ने माना कि निष्कर्ष तक पहुंचना जरूरी है, वरना सब बेकार होगा। प्रदेश भर से अभियंता इस विशेष कार्यक्रम में यहां पहुंचे थे, जिनके लिए पहली दफा ऐसा कोई प्रयास किया गया। इस प्रयास की सभी ने सराहना की। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के अलावा सरकार के मंत्री  सुरेश भारद्वाज, सरवीण चौधरी, विपिन सिंह परमार, गोबिंद सिंह  ठाकुरके अलावा डा. श्रीकांत बाल्दी, संजय कुंडू, जेसी शर्मा जैसी विभूतियों के अलावा कई दूसरी अधिकारी यहां पहुंचे थे। सभी ने ‘दिव्य हिमाचल’ के इस अनूठे प्रयास को सराहा और यहां पर  उठाए गए ज्वलंत मुद्दों पर गहनता से सोचकर कदम उठाने की बात कही। अभियंता यहां से अवश्य कुछ सीखकर गए हैं, जिनके चेहरों पर एक संतुष्टि नजर आ रही थी। वहीं सरकार की ओर से भी एक बेहतरीन पहल यहां हुई और सरकार ने भी ‘दिव्य हिमाचल’ के ऐसे प्रयासों की खुले मन से सराहना की। दिल्ली से आए विशेषज्ञों ने कई  बातों पर अभियंताओं को विस्तार से जानकारी दी। यहां प्राकृतिक आपदाओं को लेकर विस्तार से चर्चा की गई, वहीं उन्हें गुदगुदाने के लिए हास्य कलाकार भी मौजूद रहे।

You might also like