इस्लामिक आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे भारत-अमरीका

हाउडी मोदी के मंच पर बिना नाम लिए पाकिस्तान को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चेतावनी

 ह्यूस्टन –अमरीका की धरती पर आयोजित हाउडी मोदी इवेंट के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने  पाकिस्तान का नाम लिए बिना चेतावनी दी कि इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ अमरीका भारत के साथ है और दोनों देश मिलकर इस खतरे को खत्म करेंगे। उन्होंने सीमा सुरक्षा के मुद्दे पर भी भारत का खुलकर समर्थन किया और हर मौके पर भारत का साथ देना का वादा किया। ट्रंप ने इस दौरान कहा कि भारत और अमरीका अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाएंगे। इसी दौरान उन्होंने नवंबर में मुंबई में होने वाले एनबीए टूर्नामेंट में शामिल होने का इशारा भी दिया। भारत और अमरीका के बीच दोस्ती को विश्व के लिए मिसाल बताते हुए ट्रंप ने अमरीकी भारतीयों की भरपूर तारीफ की, जिस पर 50 हजार दर्शकों से खचाखच भरा स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से देर तक गूंजता रहा। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भी अपने संबोधन में प्रकृति के पथ पर अग्रसर होते भारत की तस्वीर प्रस्तुत की, जिस पर राष्ट्रपति ट्रंप  और अमरीकी सांसद बार-बार तालियां बजाते नजर आए। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देखने के लिए एनआरजी स्टेडियम में मौजूद 50 हजार से ज्यादा लोगों का उत्साह देखते ही बनता था। इसे दुनिया में बढ़ती भारतीयों की ताकत ही कहेंगे कि ह्यूस्टन के मंच पर समोसे से लेकर अमिताभ बच्चन तक को दिखाया गया।

प्रोटोकॉल तोड़कर दिया स्वच्छता का संदेश

ह्यूस्टन। हाउडी मोदी कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए ह्यूस्टन शहर में भव्य स्वागत समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता का संदेश देने के लिए प्रोटोकोल की भी पराह नहीं की। मामला यह हुआ कि एयरपोर्ट पर एक अमरीकी महिला अधिकारी ने प्रधानमंत्री मोदी को गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया, लेकिन इस दौरान गुलदस्ते में से एक फूल जमीन पर गिर गया। पीएम मोदी आगे बढ़ चुके थे, लेकिन जैसे ही इसका आभास हुआ, वह बिना प्रोटोकॉल या अपने पद की परवाह किए झुके और जमीन पर गिरे फूल को उठाकर पास खड़े अपने सहयोगी को सौंप दिया। उनकी शालीनता देखकर वहां उपस्थित अधिकारी उनके कायल हो गए।

मोदी से मिलकर भावुक हुए कश्मीरी पंडित

ह्यूस्टन। अमरीका पहुंचने के चंद घंटे के भीतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से रविवार को कश्मीरी पंडितों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की। इस दौरान वे काफी भावुक नजर आए। उन्होंने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने संबंधी अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र प्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने के कदम का पुरजोर समर्थन किया।

You might also like