ऑनलाइन बिलिंग से 240 करोड़ की कमाई

बिजली बोर्ड ने उपभोक्ताओं के लिए मोबाइल ऐप भी की शुरू; डिजिटल पेमेंट में कई तरह की छूट, बिल जमा को लंबी कतारों से छुटकारा

शिमला – स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के संयुक्त निदेशक (लोक संपर्क) अनुराग पराशर ने बताया कि बोर्ड द्वारा बिजली बिल की अदायगी और ज्यादा आसान बनाई जा रही है। बिजली बोर्ड को लगभग 60 प्रतिशत राजस्व यानी लगभग 240 करोड़ रुपए डिजिटल भुगतान के माध्यम से प्राप्त हो रहा है। जहां बोर्ड द्वारा बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल अदा करने के लिए विद्युत उपमंडलों के कैश कलेक्शन सेंटर में मैनुअल विद्युत बिल अदा करने की सुविधा प्राप्त है। वहीं, विभिन्न तरीकों से ऑनलाइन बिलिंग अदायगी को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। विद्युत उपभोक्ता, ऑनलाइन भुगतान लोकमित्र केंद्र, ऑनलाइन बैंकिंग, निजी विद्युत बिल देय करने वाली एजेंसियों और दूसरे ऑनलाइन तरीकों से कर सकता है। स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड लिमिटेड उपभोक्ताओं को अपने बिल का डिजिटल भुगतान करने को प्रोत्साहित करने के लिए सभी प्रयास कर रहा है और ऑनलाइन के किसी भी तरीके से बिल देय करने वाले विद्युत उपभोक्ता को प्रत्येक बिल पर दस रुपए की विशेष प्रोत्साहन छूट दी जा रही है। अन्य तरीकों के अलावा बोर्ड की मोबाइल ऐप की सुविधा उपभोक्ताओं के लिए बिजली बिलों का भुगतान करने के लिए एक अतिरिक्त नई सुविधा प्रदान की गई है। एचपीएसईबी डॉट ओआरजी ऐप, प्लेस्टोर से आसानी से अपलोड किया जा सकता है। इसके अलावा भी मौजूदा व्यवस्था के अनुसार उपभोक्ता स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड लिमिटेड की वेबसाइट पर भुगतान कर सकता है। जहां एचडीएफसी बैंक भुगतान गेट-वे और भारत बिल भुगतान प्रणाली (बीबीपीएस) एकीकृत है। इसके तहत बिजली बिल का बीबीपीएस भगुतान 71 बैंकिंग और गैर-बैंकिंग उपयोगिताओं के माध्यम से किया जा सकता है। एचडीएफसी बैंक भुगतान गेट-वे है, जिसमें भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, पंजाब और सिंध बैंक, देना बैंक, इंडसलैंड बैंक, एयरटेल जैसे प्रमुख बैंक शामिल हैं। इसके साथ ही गैर-बैंकिंग उपयोगिताओं जैसे पेटीएम, फोन-पे, एमेज़ोन, ऑक्सीजन, बजाज फाइनेंस आदि शामिल हैं । स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड लिमिटेड ने एचडीएफसी बैंक के भुगतान गेट-वे को एकीकृत कर दिया है, जिसके माध्यम से उपभोक्ता किसी भी बैंक के डेबिट और क्रेडिट कार्ड के माध्यम से भुगतान कर सकते हैं।

1800-180-8060 पर करें संपर्क

स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड लिमिटेड उन उपभोक्ताओं को दस रुपए की छूट दे रहा है, जो अपने भुगतान को डिजिटल रूप से किसी भी बैंक के क्रेडिट, डेबिट कार्ड या आरटीजीएस के माध्यम से कर रहे हैं। लगभग 60 प्रतिशत राजस्व यानी लगभग 240 करोड़ रुपए डिजिटल भुगतान के माध्यम से प्राप्त हो रहा है। उन्होंने विद्युत उपभोक्ताओं से अपने बिलों की अदायगी ऑनलाइन माध्यम से करने का आहवान किया है, जिससे विद्युत उपभोक्ता मैनुअल विद्युत बिल की लंबी लाइनों में खड़े होने से निजात पा सकता है। किसी प्रकार की जानकारी के लिए बोर्ड के किसी भी विद्युत उपमंडल या अन्य कार्यालय सहित टोल फ्री नंबर 1800-180-8060 या 1912 पर संपर्क करने को कहा है।

You might also like